"कामाख्या मन्दिर" के अवतरणों में अंतर

209 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
लेख का विस्तार किया
छो (Akash gogoi (Talk) के संपादनों को हटाकर Ankush deb के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(लेख का विस्तार किया)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
 
: ''योनि मात्र शरीराय कुंजवासिनि कामदा।
: ''रजोस्वला महातेजा कामाक्षी ध्येताम सदा॥
:शरणागतदिनार्त परित्राण परायणे ।
:सर्वस्यात्रि हरे देवि नारायणि नमोस्तु ते ।।
 
इस बारे में `राजराजेश्वरी कामाख्या रहस्य' एवं `दस महाविद्याओं' नामक ग्रंथ के रचयिता एवं मां कामाख्या के अनन्य भक्त ज्योतिषी एवं वास्तु विशेषज्ञ डॉ॰ दिवाकर शर्मा ने बताया कि अम्बूवाची योग पर्व के दौरान मां भगवती के गर्भगृह के कपाट स्वत ही बंद हो जाते हैं और उनका दर्शन भी निषेध हो जाता है। इस पर्व की महत्ता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पूरे विश्व से इस पर्व में तंत्र-मंत्र-यंत्र साधना हेतु सभी प्रकार की सिद्धियाँ एवं मंत्रों के पुरश्चरण हेतु उच्च कोटियों के तांत्रिकों-मांत्रिकों, अघोरियों का बड़ा जमघट लगा रहता है। तीन दिनों के उपरांत मां भगवती की रजस्वला समाप्ति पर उनकी विशेष पूजा एवं साधना की जाती है।
बेनामी उपयोगकर्ता