"मिश्र" के अवतरणों में अंतर

4,898 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
Raju Jangid (वार्ता) द्वारा सम्पादित संस्करण 4107673 पर पूर्ववत किया: -ad। (ट्विंकल)
छो (112.79.249.156 (Talk) के संपादनों को हटाकर डा० भास्कर मिश्र के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(Raju Jangid (वार्ता) द्वारा सम्पादित संस्करण 4107673 पर पूर्ववत किया: -ad। (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
मिश्रा या मिश्रा (हिंदी: "मिश्र" "मिश्रा") मिश्रा या मिश्रा (हिंदी: "मिश्र" "मिश्रा") एक हिंदू ब्राह्मण उपनाम है जो भारत के ज्यादातर उत्तरी और मध्य भागों में पाया जाता है। यह ब्राम्हण उच्च ब्राम्हणों को श्रेडी में आते है इनका निवास गोरखपुर में था वहा से वाराणसी आए थे वहा से मध्य प्रदेश में चले गए है मिश्र का घनत्व सरूपुरेन ब्राह्मणों, कान्यकुब्ज ब्राह्मणों, मैथिल ब्राह्मणों, भूमिहार ब्राह्मणों और उत्कल ब्राह्मणों में अधिक है। यह उपजाऊ गंगा के मैदानी क्षेत्र और भारतीय राज्यों दिल्ली, बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान, ओडिशा, असम और पश्चिम बंगाल में सबसे व्यापक ब्राह्मण उपनामों में से एक है। यह गुयाना और त्रिनिदाद और टोबैगो जैसे देशों में मिसिर के एंग्लिकाइज्ड वर्जन के तहत भी मिलता है, उपनाम नेपाल, फिजी और मॉरीशस के साथ-साथ अन्य भारतीय प्रवासी समुदायों में भी पाया जाता है।
 
"मिश्रा" या मिश्रा मैत्रेय या मैत्र या मैत्री (मित्र) मिश्रा के समान हैं और दोनों का एक ही अर्थ है। यह उपजाऊ गंगा के मैदानी क्षेत्र और भारतीय राज्यों पंजाब, ओडिशा, बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, असम और पश्चिम बंगाल में सबसे व्यापक ब्राह्मण उपनामों में से एक है। यह गुयाना और त्रिनिदाद और टोबैगो जैसे देशों में मिसिर के एंग्लिकाइज्ड वर्जन के तहत भी पाया जाता है, जहां कई मिश्रा को उनके कृषि कौशल और अन्य क्षेत्रों में कौशल के कारण चीनी बागानों पर काम करने के लिए लिया गया था। कहानियाँ कहती हैं कि यहाँ तक कि अंग्रेज भी मिश्रा को मेरा सर कहते थे इसलिए मिसिर और मिश्रा। उपनाम फिजी और मॉरीशस के साथ-साथ अन्य भारतीय प्रवासी समुदायों में भी पाया जाता है। यह भारत में ब्राह्मणों में सबसे आम उपनामों में से एक है।
मिश्र उपनाम के ब्राह्मणों में निम्न गोत्र होते हैं
:
===गौतम गोत्र===
गौतम गोत्र के मिश्रा उच्च कोटि में आते है इनका निवास गोरखपुर में पाया जाता है
यह सर्यूपारी ब्राम्हणों की सबसे उच्च श्रेडियो में एक होते है गौतम ऋषि के छ: पुत्र बताये जातें हैं जो इन छ: गांवों के वाशी थे|
 
(१) चंचाई (२) मधुबनी (३) चंपा (४) चंपारण (५) विडरा (६) भटीयारी(भर्शी)
 
===वत्स गोत्र===
वत्स मिश्रा का गोत्र है
इस गोत्र में प्रमुखता से परशुराम के मिश्र
विद्यमान हैं । शांडिल्य गोत्रीय ब्रह्मणों के अन्य उपनाम तिवारी, त्रिपाठी, दीक्षित तथा चक्रवर्ती भी होते हैं । शांडिल्य ऋषि चंद्रवंशीय श्रीकृष्ण वासुदेव के कुलगुरू कहलाते हैं ।
 
===उपमन्यु ===
इस गोत्र में शिवदत्त मीराँव, सहतावन केशरीमऊ, बृन्दावन ललपुरा आदि के ब्राह्मण आते हैं।
===काशयव===
इस गौत्र के अंतर्गत मिथिला बाहमण आते है। इस गौत्र के लोगो का उपनाम मिश्रा होता है।ये बाह्यण बिहार के मधुबनी जिले, दरभंगा,बेनीपटी,रैइका आदि आसपास के क्षेत्रो मे रहते है।
 
18:11, 13 मार्च 2019 (UTC)~घृतकौशिक18:11, 13 मार्च 2019 (UTC)~
इस गोत्र के अन्तर्गत जन्मना विद्वान "कुशहरा वंश"
जिसको "सिद्ध वंश" के नाम से भी जाना जाता है,वह लोग आते हैं। यद्यपि इस वंश के लोगों का आविर्भाव गोरखपुर के समीप कुशहर गांव में हुआ, किन्तु अपनी विद्वत्ता के कारण ये सम्पूर्ण भारत में ही नहीं अपितु विश्व में भी इनकी गौरव गाथा गायी गई।
संलक्ष्यता के इसी दृष्टि में पंडित देवीदत्त मिश्र का उल्लेख करते है-
यह अथर्ववेद के मर्मज्ञ थे, जिन्होंने पन्नानरेश की नि:संतानता को अपने ज्ञान के प्रभाव से समाप्त कर उनके कुल को कुलदीपक दिया, जिसके परिणामस्वरूप नरेश ने इन्हें अत्यधिक मात्रा में जमीन एवं धन दिया।
महामुनि सिद्ध भी इसी वंश के है, जिनके ज्ञान एवं तप के प्रभाव से मां मंदाकिनी के जल से भी शुद्ध देसी घी की तरह पूरियां निकाली गई,और ज्वर को कम्बल में ठहरा कर पत्थर की सवारी करते हुए गर्वित राजा के गर्व को नष्ट किया।
कालान्तर में पंडित रामलीला उनके पुत्र बाबादीन, ईश्वरदीन परमेश्वरदीन आदि लोग उत्पन्न हुये जिन्हें कुशहरा मिश्र के नाम से जाना जाता है।
इनके अनेक निवासस्थान मानिकपुर वा कौशांबी में महेवाघाट के रानीपुर-हटवा इत्यादि स्थानों पर हैं।
 
==उल्लेखनीय लोग==
*[[ रामभद्राचार्य ]]उर्फ गिरिधर मिश्र
*[[विन्ध्यप्रकाश मिश्र]] कवि अध्यापक
नरई संग्रामगढ प्रतापगढ
 
*(देवदत्त शास्त्री) लेखक, रानीपुर कौशांबी
■ शिव प्रसाद
 
===न्यायाधीश वर्ग===
*न्यायमूर्ति [[दीपक मिश्र]] - [[उच्चतम न्यायालय]] न्यायमूर्ति (भारत )<ref>http://supremecourtofindia.nic.in/judges/sjud/dipakmisra.htm</ref>
*[[पंकज मिश्र]] -निबंधकार एवं उपन्यासकार (भारतीय )
*[[गोविन्द मिश्र]] -भारतीय उपन्यासकार
*[[जयश्री मिश्र]] -भारतीय निबंधकार एवं उपन्यासकार
*(देवदत्त शास्त्री)-भारतीय कहानीकार
 
===खेल-कूद===
*[[रामखेलावन मिश्र]] - क्रान्तिकारी
*[[सौरव मिश्र]] - लेखक एवं पत्रकार
*[[पं हरिहर प्रसाद मिश्र]]-आयुर्वेदाचार्य रानीपुर कौशांबी
*[[पं देवव्रत मिश्र]]- प्रधानाध्यापक रानीपुर कौशांबी।
*[[पं श्याम नारायण मिश्र]]-प्रवक्ता रानीपुर कौशांबी
*[[प्रो०अभिराज राजेंद्र मिश्र]]-पूर्व कुलपति सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय
*[[भास्कर मिश्र]]-शोध वैज्ञानिक इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रयागराज {निवास-रानीपुर पश्चिम शरीरा कौशांबी}
*[[डा० विभा मिश्रा]]-इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रयागराज
 
==सन्दर्भ==