"चेतक" के अवतरणों में अंतर

9 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
:जो तनिक हवा से बाग हिली
:लेकर सवार उडउड़ जाता था
:राणा की पुतली फिरी नहीं
:तब तक चेतक मुडमुड़ जाता था
|
:गिरता न कभी चेतक तन पर
:फँस गया शत्रु की चालों में
 
:बढतेबढ़ते नद सा वह लहर गया
:फिर गया गया फिर ठहर गया
:बिकरालविकराल बज्रमयवज्रमय बादल सा
:अरि की सेना पर घहर गया।
|
96

सम्पादन