"देवनागरी" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
:: ''माल बनी बल केसबदास, सदा बसकेल बनी बलमा ॥''
 
:इस [[सवैया]] की किसी भी पंक्ति को किसी ओर से भी पढियेपढ़िये, कोई अंतर नही पड़ेगा।
:: ''सदा सील तुम सरद के दरस हर तरह खास। ''
96

सम्पादन