"हिमाचल प्रदेश" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  10 माह पहले
वर्तनी में त्रुटि थी
छो (2405:204:E285:DC0B:0:0:1DCD:C8A5 (Talk) के संपादनों को हटाकर Wikilover90 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(वर्तनी में त्रुटि थी)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
* '''1950 ई. में प्रदेश का पुनर्गठन'''
 
1950 ई. में प्रदेश के पुनर्गठन के अंतर्गत प्रदेश की सीमाओं का पुनर्गठन किया गया। कोटखाई को उपतहसील का दर्जा देकर खनेटी, दरकोटी, कुमारसैन उपतहसील के कुछ क्षेत्र तथा बलसन के कुछ क्षेत्र तथा बलसन के कुछ क्षेत्र कोटखाई में शामिल किए गए। कोटगढ़ को कुमारसैन उपतहसील में मिला गया। उत्तर प्रदेश के दो गांव संगोससंसोग और भांदरभटाड़ जुब्बल तहसील में शामिल कर दिए गए। पंजाब के नालागढ़ से सात गांव लेकर सोलन तहसील में शामिल गए गए। इसके बदले में शिमला के नजदीक [[कुसुम्पटी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र, हिमाचल प्रदेश|कुसुम्पटी]], भराड़ी, संजौली, वाक्ना, भारी, काटो, रामपुर। इसके साथ ही पेप्सी (पंजाब) के छबरोट क्षेत्र कुसुम्पटी तहसील में शामिल कर दिया गया।
* '''बिलासपुर जिला का विलय'''
बिलासपुर रियासत को 1948 ई. में प्रदेश से अलग रखा गया था। उन दिनों इस क्षेत्र में भाखड़ा-बांध परियोजना का कार्य चलाने के कारण इसे प्रदेश में अलग रखा गया। एक जुलाई, 1954 ई. को कहलूर रियासत को प्रदेश में शामिल करके इसे बिलासपुर का नाम दिया गया। उस समय बिलासपुर तथा घुमारवीं नामक दो तहसीलें बनाई गईं। यह प्रदेश का पांचवां जिला बना। 1954 में जब ‘ग’ श्रेणी की [[रियासत]] बिलासपुर को इसमें मिलाया गया, तो इसका क्षेत्रफल बढ़कर 28,241 वर्ग कि.मी.हो गया।