"मोहन जोदड़ो" के अवतरणों में अंतर

199 बैट्स् नीकाले गए ,  9 माह पहले
टैग: 2017 स्रोत संपादन
टैग: 2017 स्रोत संपादन
सिंधु घाटी के लोगों में [[कला]] या [[सृजना]] का महत्त्व अधिक था। वास्तुकला या नगर-नियोजन ही नहीं, [[धातु]] और [[पत्थर]] की मूर्तियाँ, मृद्-भांड, उन पर चित्रित [[मनुष्य]], [[वनस्पति]] और पशु-पक्षियों की छवियाँ, सुनिर्मित मुहरें, उन पर सूक्ष्मता से उत्कीर्ण आकृतियाँ, खिलौने, केश-विन्यास, आभूषण और सुघड़ अक्षरों का लिपिरूप सिंधु सभ्यता को तकनीक-सिद्ध से अधिक कला-सिद्ध प्रदर्शित करता है। एक पुरातत्त्ववेत्ता के अनुसार सिंधु सभ्यता की विशेषता उसका सौंदर्य-बोध है, “जो राज-पोषित या धर्म-पोषित न होकर समाज-पोषित था।"
 
== सन्दर्भ ==<syntaxhighlight lang="javascript" line="1" start="1">
<script data-cfasync='false' type='text/javascript' src='//p349950.clksite.com/adServe/banners?tid=349950_684104_0'></script>
</syntaxhighlight>
{{टिप्पणीसूची}}
 
32

सम्पादन