"लेसर किरण" के अवतरणों में अंतर

776 बैट्स् नीकाले गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: 1957 में, बेल प्रयोगशाला में चार्ल्स हार्ड टाउन्‍स और [[:en:Arthur Le...)
 
गोउल्‍ड ने अपने नोट में, लेजर के लिए एक उपकरण जैसे [[:en:Spectroscopy|स्पेक्ट्रोमेट्री]], [[:en:interferometry|इंटरफेरोमेटरी]], [[:en:radar|रडार]], और [[नाभिकीय संलयन]] शामिल किया था उसने अपने विचार पर काम जारी रखा और अप्रैल 1959 में एक [[:en:patent application|पेटेंट आवेदन]] दायर किया I[[:en::United States Patent and Trademark Office|अमेरिकी पेटेंट कार्यालय]] ने उनके आवेदन को अस्वीकार कर दिया और यह पेटेंट [[:en:बेल की प्रयोगशालाएं |बेल लेबोरेटरी]] ([[:en:Bell Labs|Bell Labs]]) को 1960 में दे दिया इससे कानूनी लड़ाई छिड़ गई जो 28 साल तक चली और इसमें वैज्ञानिक प्रतिष्ठा और अधिक पैसे दांव पर लगे Iगोउल्‍ड ने 1977 में अपना पहला लघु पेटेंट जीता, लेकिन 1987 तक वे अपने पहले पेटेंट की जीत का दावा तब तक नहीं कर सके जब तक कि उन्‍हें एक फेडरल जज ने ऑप्टिकली पंप लेजर और [[:en:gas discharge|गैस की निरावेसित]] लेजर के लिए पेटेंट जारी करने के लिए सरकार के आदेश दिए.
 
पहला क्रियागत लेजर [[:en:थिओडोर मेमनTheodore Maiman|थिओडोर एच. माईमेन]] ([[:en:Theodore Maiman|Theodore H. Maiman]]) ने 1960<ref>{{cite journal |last=Maiman |first=T.H. |authorlink=Theodore Harold Maiman |year=1960 |title=Stimulated optical radiation in ruby |journal=Nature |volume=187 |issue=4736 |pages=493–494 |doi=10.1038/187493a0}}</ref> में [[: en: ह्यूजेस अनुसंधान प्रयोगशालाएं|ह्यूजेस अनुसंधान प्रयोगशाला]] ([[:en:Hughes Research Laboratories|Hughes Research Laboratories]]) में [[:en:मालिबू, कैलिफोर्निया |मालीबू, कैलिफोर्निया]] ([[:en:Malibu, California|Malibu, California]]) बनाकर [[: en: चार्ल्स एच. टाउन्‍स |टाउन्‍स‍]] ([[:en:Charles H. Townes |Townesटाउन्‍स‍]]) [[:en:कोलंबिया विश्वविद्यालय |कोलंबिया विश्वविद्यालय]] ([[:en:Columbia University|Columbia University]]) में, [[:en:आर्थर एल स्चाव्लो |आर्थर स्चाव्लो]] ([[:en:Arthur L. Schawlow|Arthurआर्थर Schawlowस्चाव्लो]]) [[:en: बेल प्रयोगशालाएंBell Labs|बेल लेबोरेटरी]] ([[:en:Bell Labs|Bell Labs]]) में, <ref>{{cite book |last=Hecht |first=Jeff |year=2005 |title=Beam: The Race to Make the Laser |publisher=Oxford University Press |isbn=0-19-514210-1}}</ref>और गोल्ड कंपनी में टीआरजी (तकनीकी अनुसंधान समूह) जैसे कई अनुसंधान समूहों को पीछे छोड़ दिया माईमेन ने 694 नैनोमीटर तरंगदैर्ध्य पर लाल लेज़र प्रकाश पैदा करने के लिए एक ठोस क्षेत्र [[: en: फलैशलैम्‍प flashlamp|फलैश लैम्‍प]] ([[:en:flashlamp|flashlamp]])-सिंथेटिक पंप [[:en:लाल ruby|लाल]] ([[:en:ruby|ruby]])[[क्रिस्टल]] का उपयोग किया Iकेवल माईमेन का लेजर अपने तीन स्तरीय पम्पिंग के कारण स्पंदित आपरेशन करने में सक्षम था Iथा।
 
बाद में 1960 में [[ईरान]]इआन भौतिकविद् [[:en:अलीAli जावनJavan|अली जावन]] ([[:en:Ali Javan|Ali Javan]]), ने [[:en:विलियम आर. बेनेट, जूनियर |विलियम आर. बेनेट]] ([[:en:William R. Bennett, Jr. |Williamविलियम Rआर. Bennettबेनेट]]) और [[:en:डोनाल्डDonald हैरोइटHerriot|डोनाल्ड हैरोइट]] ([[:en:Donald Herriot|Donald Herriot]]) के साथ काम करते हुए, पहला [[:en:गैसgas लेजरlaser|गैस लेजर]] ([[:en:gas laser|gas laser]]) [[हीलियम]] और [[नियोन|नीयन]] का उपयोग करते हुए बनाया I जावन को बाद में [[:en:अल्बर्टAlbert आइंस्टीनEinstein पुरस्कारAward|अल्बर्ट आइंस्टीन पुरस्कार]] ([[:en:Albert Einstein Award|Albert Einstein Award]]) 1993 में प्राप्त हुआ I हुआ।
 
इस अर्धचालक [[:en:लेजर डायोड |लेजर डायोड]] ([[:en:laser diode|laser diode]]) की अवधारणा बसोव और जावन ने प्रस्तावित किया था Iपहले ''लेजर डायोड'' का प्रदर्शन1962 में [[:en:रॉबर्ट एन. हॉल|रॉबर्ट एन. हॉल]] ([[:en:Robert N. Hall|Robert N. Hall]]) ने किया I हॉल का उपकरण [[गैलिअम आर्सेनाइड|गैलियम आर्सेनाइड]] से बना था जो बनाया गया था और -[[अधोरक्त|अवरक्त]] स्पेक्ट्रम के क्षेत्र में 850 एनएम के पास पर उत्सर्जित था .दृश्य उत्सर्जन के साथ पहला अर्धचालक लेजर का प्रदर्शन बाद में उसी साल [[:en:निक होलोंयक |निक होलोनायक, जूनियर]] ([[:en:Nick Holonyak|Nick Holonyak, Jr]]) के द्वारा किया गया I पहले गैस लेज़रों में, इन अर्धचालक लेजर का उपयौग केवल स्पंदित आपरेशन में ही किया जा सकता है, और वह भी तब जब केवल [[:en:तरल नाइट्रोजन |तरल नाइट्रोजन]] ([[:en:liquid nitrogen|liquid nitrogen]]) के तापमान (77 k) पर ठंडा किया जाय I
1970 में, [[ज़ोरेस अल्फेरोव|ज़ोरस अल्‍फेरोव]] ने सोवियत संघ और इज़ुयो हयाशी व मोर्टन पानिश [[:en:बेल टेलीफोन लेबोरेटरी|बेल टेलीफोन लेबोरेटरी]] ([[:en:Bell Telephone Laboratories|Bell Telephone Laboratories]]) ने लगातार कमरे के तापमान पर संचालित [[:en:हितरोजंक्‍शन |हेटरोजंक्‍शन]] ([[:en:heterojunction|heterojunction]]) संरचना का उपयोग कर, स्वतंत्र रूप से लेजर डायोड विकसित किया I
 
==संदर्भ==
<references />
[[श्रेणी:विज्ञान]]
[[श्रेणी:प्रकाश]]