"गणेश" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  7 माह पहले
छो
27.63.39.249 (Talk) के संपादनों को हटाकर Hellllllllllhklp के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (27.63.39.249 (Talk) के संपादनों को हटाकर Hellllllllllhklp के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
== शारिरिक संरचना ==
[[File:Ganesh ji Statue Mandsour India.jpg|thumb|[[मंदसौर]] से प्राप्त प्रतिमा]]
[[चित्र:Ganesh1.jpg|thumb|right|200px|चतुर्भुज गणेश]]
गणपति आदिदेव हैं जिन्होंने हर युग में अलग [[अवतार]] लिया। उनकी शारीरिक संरचना में भी विशिष्ट व गहरा अर्थ निहित है। शिवमानस पूजा में श्री गणेश को प्रणव ([[ॐ]]) कहा गया है। इस एकाक्षर ब्रह्म में ऊपर वाला भाग गणेश का मस्तक, नीचे का भाग उदर, चंद्रबिंदु लड्डू और मात्रा सूँड है।