"चम्पारण सत्याग्रह": अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  3 वर्ष पहले
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
फैसला स्थगित कर दिया गया। अपने प्रथम सत्याग्रह आंदोलन का सफल नेत्त्व किया अब उनका पहला उद्देश लोगों को 'सत्याग्रह' के मूल सिद्धातों से परिचय कराना था। उन्होंने स्वतंत्रता प्राप्त करने की पहली शर्त है - डर से स्वतंत्र होना। गांधीजी ने अपने कई स्वयंसेवकों को किसानों के बीच में भेजा। यहाँ किसानों के बच्चों को शिक्षित करने के लिए ग्रामीण विद्यालय खोले गये। लोगों को साफ-सफाई से रहने का तरीका सिखाया गया। सारी गतिविधियाँ गांधीजी के आचरण से मेल खाती थीं।इस दौरान गांधी जी<ref>http://www.univarta.com/gandhi-thought-rajendra-kripalani-and-anugrah-to-make-their-own-food/features/news/841521.html</ref> ने राजेंद्र बाबू,आचार्य कृपलानी और अनुग्रह बाबू जैसे सहयोगियों को भोजन बनाना एवं घर के अन्य काम खुद करना सीखा दिया था। स्वयंसेवकों ले मैला ढोने, धुलाई, झाडू-बुहारी तक का काम किया।।चंपारण के इस ऐतिहासिक संघर्ष में<ref>http://www.livehindustan.com/news/guestcolumn/article1-mahatma-gandhi-satyagraha-champaran-527688.html</ref> डॉ [[राजेंद्र प्रसाद]], डॉ [[अनुग्रह नारायण सिंह]], [[आचार्य कृपलानी]], बृजकिशोर, [[महादेव देसाईं|महादेव देसाई]], [[नरहरि पारीख]] समेत चंपारण के किसानों ने अहम भूमिका निभाई।
 
चंपारन के इस गांधी अभियान से अंग्रेज सरकार परेशान हो उठी। सारे भारत का ध्यान अब चंपारन पर था। सरकार ने मजबूर होकर एक जाँच आयोग नियुक्त किया, गांधीजी को भी इसका सदस्य बनाया गया।। परिणाम सामने था। कानून बनाकर सभी गलत प्रथाओं को समाप्त कर दिया गया। जमींदार के लाभ के लिए नील की खेती करने वाले किसान अब अपने जमीन के मालिक बने। गांधीजी ने भारत में सत्याग्रह की पहली विजय का शंख फूँका। चम्पारन ही भारत में सत्याग्रह की जन्म स्थली बना। धन्यवाद .|
 
== संकट ==
बेनामी उपयोगकर्ता