"बाणभट्ट" के अवतरणों में अंतर

369 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
'''बाणभट्ट''' सातवीं शताब्दी के संस्कृत गद्य लेखक और कवि थे। वह राजा [[हर्षवर्धन]] के ''आस्थान कवि'' थे। उनके दो प्रमुख ग्रंथ हैं: [[हर्षचरितम्]] तथा [[कादम्बरी]]। हर्षचरितम्<ref>{{cite web | title =स्थानविश्वर (ऐतिहासिक क्षेत्र, भारत) |publisher= ब्रिटैनिका विश्वकोश | url = http://www.britannica.com/EBchecked/topic/566090/Sthanvishvara | accessdate = २४ नवम्बर २०१४ }}</ref> , राजा [[हर्षवर्धन]] का जीवन-चरित्र था और [[कादंबरी]] दुनिया का पहला उपन्यास था। [[कादंबरी]] पूर्ण होने से पहले ही बाणभट्ट जी का देहांत हो गया तो उपन्यास पूरा करने का काम उनके पुत्र भूषणभट्ट ने अपने हाथ में लिया। दोनों ग्रंथ [[संस्कृत साहित्य]] के महत्त्वपूर्ण ग्रंथ माने जाते है<ref name="Datta1988">{{cite book|author=अमरेश दत्ता|title=भारतीय साहित्य के मकदूनियाई: देवराज ज्योति को|url=http://books.google.com/books?id=zB4n3MVozbUC&pg=PA1339|year=1988|publisher=साहित्य अकादमी|isbn=९७८-८१-२६०-११९४-०|pages=१३३९–}}</ref>।
 
महाकवि बाणभट्ट ने [[गद्य]]रचना के क्षेत्र में वही स्थान प्राप्त किया है जो कि [[कालिदास]] ने संस्कृत काव्य क्षेत्र में। पाश्चाद्वर्ती लेखकों ने एक स्वर में बाण पर प्रशस्तियों की अभिवृष्टि की है।
== परिचय ==
जन्म स्थान - चंंदरेह (सीधी जिला )म. प्र.
 
महाकवि बाणभट्ट ने [[गद्य]]रचना के क्षेत्र में वही स्थान प्राप्त किया है जो कि [[कालिदास]] ने संस्कृत काव्य क्षेत्र में। पाश्चाद्वर्ती लेखकों ने एक स्वर में बाण पर प्रशस्तियों की अभिवृष्टि की है।
 
[[आर्यासप्तति]] के लेखक गोवर्धनाचार्य का कथन है-
बेनामी उपयोगकर्ता