"पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो" के अवतरणों में अंतर

पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के नए महानिदेशक बने वीरेंद्र कुमार
(पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के नए महानिदेशक बने वीरेंद्र कुमार)
}}
'''पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो''' ([[अंग्रेज़ी]]:''ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एण्ड डवलपमेंट'', लघु:'''[[बी.पी.आर एण्ड डी]]''') की स्थापना [[पुलिस]] बलों के आधुनिकीकरण के बारे में [[भारत सरकार]] के उद्देश्य को पूरा करने के लिए [[२८ अगस्त]], [[१९७०]] को की गई थी।<ref name="आधिकारिक">[http://www.bprd.gov.in/index_hin.asp आधिकारिक जालस्थल]- पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो</ref> अब यह बहुआयामी एवं परामर्शदाता संगठन है और इसके चार प्रभाग हैं। मूल रूप से संस्थान में दो प्रभाग होते थे: अनुसंधान एवं विकास प्रभाग। बाद में [[१९७३]] में प्रशिक्षण प्रभाग जोड़ा गया। इसके बाद [[१९८३]] में फॉरेन्ज़िक विज्ञान प्रभाग और [[१९९५]] में दिष-सुधार प्रशासन प्रभाग जुड़े। इसके साथ साथ कुछ अन्य विभागों ने संस्थान के कुछ कार्य संभाले, जैसे [[१९७६]] में अपराध विज्ञान एवं फॉरेन्ज़िक विज्ञान ने कुछ संबंधित कार्य संभाला। इस विभाग को बाद में लोक नायक जय प्रकाश नारायण राष्ट्रीय अपराध विज्ञान एवं फॉरेन्ज़िक विज्ञान नाम दिया गया। [[१९८६]] में राष्ट्रीय अपराध अभिलेख ब्यूरो और २००२ में फॉरेन्ज़िक विज्ञान निदेशालय ने संभाला।
 
11 जून 2019 को वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी वी एस कौमुदी को पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो (बीपीआरएंडडी) का महानिदेशक नियुक्त किया गया है।
 
== प्रभाग ==
54

सम्पादन