"युवराज सिंह": अवतरणों में अंतर

1,886 बाइट्स हटाए गए ,  3 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
No edit summary
==सन्दर्भ==
{{reflist}}
== युवराज सिंह की उपलब्धियाँ – ==
Yuvraj singh India Cricket Team के बहुत ही शानदार खिलाड़ी है.जिस वजह से इन्होंने अपने Life में बहुत सी उपलब्धियां हासिल की. उनमें से कुछ इस प्रकार हैं-
 
साल 2007 के ICC World Cup T -20 मैच में इन्होंने 6 बॉल में 6 Six लगाये.
== युवराज सिंह के जीवन के कुछ रोचक तथ्य ==
ये पहले All Rounder बने जिन्होंने single world cup में 300 से ज्यादा रन्स और 15 से ज्यादा विकेट्स लिए.
Yuvraj singh बचपन में रोलर स्केटिंग और टेनिस में बहुत ही अच्छे थे, इन्होंने Rollar Skating में National U – 11 चैंपियनशिप भी जीती.
2011 के ICC वर्ल्डकप में इन्हें “मैन ऑफ़ दा टूर्नामेंट का अवार्ड” मिला.
युवराज ने बचपन में बाल कलाकार के रूप में 2 पंजाबी फिल्म्स ‘पट सरदार’ और ‘मेहेन्दी सगण दी’ में काम किया.
2012 में भारत के राष्ट्रपति “श्री प्रणव मुखर्जी” द्वारा भारत का दूसरा सबसे बड़ा खेल रत्न अवार्ड “अर्जुन” अवार्ड से नवाजा गया.
युवराज सिंह को बचपन से ही दुसरे खेलों में रुचि थी। किन्तु इनके पिता ने इन्हें cricket के लिए ही जोर दिया. नवजोत सिंह सिन्धु Yuvraj के coach बने, किन्तु उनकी बैटिंग में कोई भी Improvement नहीं हुई तब इनके पिता ने coach के रूप में इन्हें cricket में आगे बढ़ाया.
2014 में “पदम्श्री” Award दिया गया !
शुरुआत में इनके पिता ने इन्हें ट्रेन किया इसके बाद इन्हें mumbai के एल्फ – वेंगसरकर क्रिकेट एकेडमी में भेज दिया गया.
फरवरी साल 2014 में इन्हें साल के सबसे प्रेरनादायी खिलाड़ी के रूप में FICCI अवार्ड के साथ सम्मानित किया गया.
December साल 1999 में युवराज ने बिहार के खिलाफ मैच खेल कर U- 19 कूच बिहार ट्राफी में 3 शतक लगाकर 404 बॉल्स में 358 रन्स बनाये. सबसे अच्छी बात यह है कि उस समय MS Dhoni बिहार की Team से थे.
जब Yuvraj Singh बहुत ही कम उम्र के थे। तक उनके पिता का तलाक़ हो गया और Yuvraj अपनी माँ के साथ रहने लगे.
उनका लकी नंबर 12 है.
Yuvraj singh, Sachin Tendulakr को अपना प्रेरणास्त्रोत समझते हैं.
सबसे पहले International Cricket Match में युवराज को 21 लाख रूपये का चेक मिला जिसे उन्होंने अपनी माँ को घर खरीदने के लिए दिया.
2007 ICC T -20 worldcup में इन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 6 बॉल्स में 6 छक्के मार कर एक इतिहास कायम कर दिया.
सन 2011 के World Cup के बाद इन्हें पता चला कि इन्हें लंग कैंसर है ! किन्तु वे कमजोर नहीं पड़े और Chemotherapy के जरिये वे ठीक हो कर वापस भी लौट आये.
युवराज ने अपने बाएँ हाथ के बाइसेप में रोमन में “XII” टेटू बनवाया है.
युवराज ने कैंसर से पीढित रोगियों के लिए youwecan की स्थापना की.
==बाहरी कड़ियाँ==
 
52

सम्पादन