Difference between revisions of "समानता की प्रतिमा"

no edit summary
(प्राथमिक सुधार)
Tags: Mobile edit Mobile web edit
{{कॉपी पेस्ट|url=http://m.bhaskar.com/news/MH-ambedkar-statue-installation-news-hindi-5401395-PHO.html?referrer_url=http%3A%2F%2Fwww.google.com|date=मई 2019}}
{{Infobox monument
|monument_name = स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी
}}
 
'''समानता की प्रतिमा''' या '''डॉ॰ बाबासाहेब आम्बेडकर स्मारक'''' <ref>name="TNN 2012">{{cite web | author=TNN | title=Statue of equality should come up at Indu Mill site: Ambedkar | website=The Times of India | date=2 January 2012 | url=http://timesofindia.indiatimes.com/city/pune/Statue-of-equality-should-come-up-at-Indu-Mill-site-Ambedkar/articleshow/11330635.cms | accessdate=1 October 2015}}</ref><ref name="dna 2012">{{cite web | title=Govt dithers even on ‘statue of equality’ plan | website=dna | date=16 March 2012 | url=http://www.dnaindia.com/mumbai/report-govt-dithers-even-on-statue-of-equality-plan-1662960 | accessdate=1 October 2015}}</ref><ref>{{cite news|title=A year on, state govt yet to pick designer for Ambedkar memorial |url=http://indianexpress.com/article/cities/mumbai/state-yet-to-pick-designer-for-ambedkar-memorial/}}</ref> मुम्बई में 138 मीटर (450 फुटफ़ुट) ऊँचा [[महाराष्ट्र सरकार]] द्वारा प्रस्तावित भारत के प्रथम [[कानून|कानून मंत्री]] तथा [[भारतीय संविधान]] के पिता [[भीमराव आंबेडकरआम्बेडकर|डॉ॰ भीमराव आंबेडकरआम्बेडकर]] जी का स्मारक है।<ref name="Sports 2015">{{cite web | author=Sports | title=PM Modi to be briefed on how Ambedkar Memorial will look | website=The Indian Express | date=10 October 2015 | url=http://indianexpress.com/article/cities/mumbai/pm-modi-to-be-briefed-on-how-ambedkar-memorial-will-look/ | accessdate=20 October 2015}}</ref> [[भारत]] के [[प्रधानमंत्री]] श्री॰ [[नरेन्द्र मोदी]] ने 11 अक्टूबर 2015 को डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जी की इस विशालकाय मूर्ति एवं विश्व-स्मारक के निर्माण का [[दादर]], [[मुंबई]] में शिलान्यास किया।<ref>{{cite web|url=http://www.indianexpress.com/news/ambedkar-memorial-statue-taller-than-that-of-liberty-sought/1041101/ |title=Ambedkar memorial: Statue taller than that of Liberty sought |publisher=Indian Express |date=2012-12-06 |accessdate=2013-10-29}}</ref><ref>http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2012-01-02/pune/30580928_1_entire-land-memorial-years-acres</ref><ref>http://www.yourspj.com/statue-of-equality-diversion-from-objective/</ref><ref>http://www.dnaindia.com/mumbai/report-govt-dithers-even-on-statue-of-equality-plan-1662960</ref> इंदू मिल की 12 एकड भूमि पर यह भव्य स्मारक बनेगा। समानता का यह स्मारक डॉ॰ आंबेडकर के समाधि स्थल [[चैत्य भूमि]] के करीब है। इस स्मारक में 450 फुट ऊंची आम्बेडकर की प्रतिमा होंगी, जो भारत में दुसरी तथा विश्व में तिसरी सबसे अधिक ऊँची मुर्ति होंगी।<ref>https://m-timesofindia-com.cdn.ampproject.org/v/s/m.timesofindia.com/city/mumbai/dr-babasaheb-ambedkar-statue-to-be-100-ft-taller/amp_articleshow/69884187.cms?amp_js_v=a2&amp_gsa=1#referrer=https%3A%2F%2Fwww.google.com&amp_tf=From%20%251%24s</ref>
 
डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जीआम्बेडकर ने करोड़ो देशवासियों के समानता के पूरे जीवन भर संघर्ष किया, इसलिए भीमराव कोउनको '''समानता का प्रतीक''' (सिम्बॉल ऑफ इक्वेलिटी) कहा जाता है।
 
== इतिहास ==
[[चित्र:Dr. Bhimrao Ambedkar.jpg|thumb|right|200px|प्रतिभाशाली एवं [[समानता|समानता पुरूष]] डॉ. भीमराव आंबेडकर, जिनके सम्मान में यह स्मारक निर्माण हो रह है।]]
 
महाराष्ट्र के आम्बेडकरवादी नेता महाराष्ट्र सरकार से सन 2000 से मुंबई में आम्बेडकर का भव्य स्मारक बनाने की मांग कर रहे थे। मुंबई के [[दादर]] में पुराने इंदु मिल्स की जमीन पर आम्बेडकर स्मारक बनाने सर्वप्रथम घोषणा 18 अगस्त 2012 को भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री [[मनमोहन सिंह]] ने की थी।<ref>{{cite news|title=Indu Mills land in the city for the memorial of Dr Babasaheb Ambedkar before December 6, the death anniversary of the late leader.|url=http://www.business-standard.com/article/pti-stories/announce-indu-mills-land-allotment-for-memorial-before-dec-6-114120401263_1.html}}</ref> किंतु इसके बाद स्मारक का काम आगे नहीं बढा। 2014 में केंद्र व राज्य में सरकार बदली और बीजेपी पार्टी सत्ता में आयी। स्मारक का पहला एक प्रारूप बनाया गया था उसमें केवल 80 फुट ऊंची प्रतिमा का प्रस्ताव था। [[11 अक्टूबर]] [[2015]], स्मारक की आधारशिला भारत के [[प्रधानमंत्री]] [[नरेंद्र मोदी]] द्वारा रखी गई थी।<ref name="PTI 2015">{{cite web | author=PTI | title=PM Lays Foundation Stone of Ambedkar Memorial, Sena Stays Away | website=The New Indian Express | date=20 October 2015 | url=http://www.newindianexpress.com/nation/PM-Lays-Foundation-Stone-of-Ambedkar-Memorial-Sena-Stays-Away/2015/10/11/article3074585.ece | accessdate=20 October 2015}}</ref> लेकिन कुछ संगठनों ने स्मारक के प्रारूप को लेकर ऐतराज जताया, [[रिपब्लिकन सेना]] के [[आनंदराज आंबेडकर]] सहित कुछ संगठनों ने मांग की थी कि आम्बेडकर का स्मारक अमेरिका के [[स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी]] से ऊंचा हो। और इस संदर्भ में फैसला लेने के लिए [[राज्य]] के सामाजिक न्याय मंत्री [[राजकुमार बडोले]] की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गई।<ref>[http://m.bhaskar.com/news/MH-ambedkar-statue-installation-news-hindi-5401395-PHO.html?referrer_url=http%3A%2F%2Fwww.google.com स्थापित होगी बाबा साहेब की 350 फीट ऊंची प्रतिमा, सीएम फडणवीस ने दी मंजूरी]</ref><ref>[http://khabar.ndtv.com/news/india/dr-ambedkars-memorial-in-mumbai-which-will-be-unique-1220561]</ref> कमिटी ने नया प्रारुप बनाया, आंबेडकर के अंतरराष्ट्रिय स्मारक के इस नए प्रारूप को [[अगस्त]] [[2016]] को [[मुख्यमंत्री]] [[देवेंद्र फडणवीस]] द्वारा मंजूरी दे दी गई। इस प्रारूप के मुताबिक इंदु मिल की जमीन पर जो आंबेडकर स्मारक विकसित किया जाने वाला था उसमें आंबेडकर की 350 फुट ऊंची प्रतिमा बनाने का प्रस्ताव था, जिसमें प्रतिमा के चबूतरे की ऊंचाई 100 फीट भी सम्मिलीत थी। यानी प्रतिमा की ऊंचाई 250 फुट और चबुतरे की ऊंचाई 100 फुट।<ref>[http://m.bhaskar.com/news/MH-ambedkar-statue-installation-news-hindi-5401395-PHO.html?referrer_url=http%3A%2F%2Fwww.google.com स्थापित होगी बाबा साहेब की 350 फीट ऊंची प्रतिमा, सीएम फडणवीस ने दी मंजूरी]</ref><ref>[http://khabar.ndtv.com/news/india/dr-ambedkars-memorial-in-mumbai-which-will-be-unique-1220561]</ref> इस प्रारुप में अमेरिका के [[स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी]] से भी ऊंची प्रतिमा स्थापित करने की योजना थी।<ref>[http://m.navbharattimes.indiatimes.com/metro/mumbai/politics/indu-mill-monument-aanbedk-approve-the-draft/articleshow/53813626.cms डॉ. भीमराव आंबेडकर स्मारक की नई संरचना]</ref><ref>http://www.jansandesh.com/%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A5%E0%A4%BE%E0%A4%AA%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%B9%E0%A5%8B%E0%A4%97%E0%A5%80-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%AC%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B9%E0%A5%87%E0%A4%AC-%E0%A4%95/18456</ref> आम्बेडकर के पौत्र [[आनंदराज आंबेडकर]] ने फिर इसका विरोध करते हुए आरोप किया की मुर्ति की ऊंचाई 100 फुट से कम की गई हैं, उन्होंने मांग की थी कि केवल आम्बेडकर की प्रतिमा (बिना चबुरते) की ऊंचाई 350 फुट होनी चाहिये। 21 जून 2019 में देवेन्द्र फडणवीस द्वारा इस मांग को पुरा करते हुये मुर्ति की कुल ऊंचाई 450 (138 मीटर) फुट करने की घोषणा की, इस प्रारूप में 350 फुट (108 मीटर) महज मुर्ति की ऊंचाई तथा 100 फुट (30 मीटर) मुर्ति के चबुतरे की ऊंचाई है।
आंबेडकर स्मारक मुंबई पर 18 अगस्त 2012 में भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री डॉ [[मनमोहन सिंह]] ने घोषणा की थी। यह [[दादर]] में पुराने इंदु मिल्स की जमीन पर स्थित किया जा रहा है।<ref>{{cite news|title=Indu Mills land in the city for the memorial of Dr Babasaheb Ambedkar before December 6, the death anniversary of the late leader.|url=http://www.business-standard.com/article/pti-stories/announce-indu-mills-land-allotment-for-memorial-before-dec-6-114120401263_1.html}}</ref>
 
=== स्मारक की संरचना ===
== आंबेडकर स्मारक ==
=== आधारशिला ===
[[11 अक्टूबर]] [[2015]], स्मारक की आधारशिला भारत के [[प्रधानमंत्री]] [[नरेंद्र मोदी]] द्वारा रखी गई थी।<ref name="PTI 2015">{{cite web | author=PTI | title=PM Lays Foundation Stone of Ambedkar Memorial, Sena Stays Away | website=The New Indian Express | date=20 October 2015 | url=http://www.newindianexpress.com/nation/PM-Lays-Foundation-Stone-of-Ambedkar-Memorial-Sena-Stays-Away/2015/10/11/article3074585.ece | accessdate=20 October 2015}}</ref> स्मारक का काम नवंबर 2015 में शुरू किया गया था।
 
=== स्मारक की संरचना ===
संरचना के मुख्य प्रवेश द्वार एसकेएस मार्ग के साथ सटे Cadell सड़क माध्यमिक पहुँच बिंदु के रूप से होगा। स्मारक भीड़ के आसान आंदोलन के लिए [[चैत्य भूमि]] के साथ जोड़ा जाएगा। स्मारक भारतीय रुपया 425 करोड़ (यूएस $ 62,05 मिलियन) 12 एकड़ में तत्कालीन इंदु मिल की जमीन खर्च होंगे। इसका मुख्य आकर्षण एक तालाब के चारों ओर एक 25,000 वर्ग फुट [[स्तूप]] होगा। 24 पत्थर पसलियों के साथ एक गुंबद की तरह संरचना भूखंड के मध्य में किया जाएगा। वहाँ एक [[अशोक चक्र]] स्मारक संरचना को कवर किया जाएगा। वहाँ भी एक प्रस्तावित 39,622 वर्ग फुट इंटरैक्टिव आंबेडकर के जीवन के कई पहलुओं को प्रदर्शित संग्रहालय होगा। स्मारक 400 वाहनों के आसपास पार्क करने के लिए एक सुविधा के लिए होगा।<ref>{{cite news|title=PM Modi to be briefed on how Ambedkar Memorial will look.|url=http://indianexpress.com/article/cities/mumbai/pm-modi-to-be-briefed-on-how-ambedkar-memorial-will-look/}}</ref>
 
संघर्ष की गैलरी भी वहाँ हो जाएगा एक पुस्तकालय में 50,000 वर्ग फुट भर में फैले के साथ जीवन और डॉ बी आर अम्बेडकर के काम के साथ जुड़े महत्वपूर्ण घटनाओं को चित्रित करने के लिए।<ref name="NDTV.com 2015">{{cite web | title=PM Narendra Modi Lays Foundation Stone of Ambedkar Memorial in Mumbai | website=NDTV.com | date=11 October 2015 | url=http://www.ndtv.com/india-news/pm-narendra-modi-lays-foundation-stone-of-ambedkar-memorial-in-mumbai-1230859 | accessdate=20 October 2015}}</ref>
 
=== विवाद ===
स्मारक की पूर्व आधारशिला घटना की बिछाने के बाद, डॉ. आंबेडकर के परिवार (डॉ. भीमराव आंबेडकर के पोते [[प्रकाश आंबेडकर]] और [[आनंदराज आंबेडकर]]) और महाराष्ट्र के आंबेडकरवादी नेता मेमोरियल डिजाइन से संतुष्ट नहीं थे। जबकि दूसरों ने सोचा की यह मेमोरियल डॉ भीमराव आंबेडकर का कद करारा नहीं था कुछ डिजाइन के व्यावहारिक विवरण पर चिंता थी। प्रकाश आंबेडकर स्मारक के लिए दबाया है करने के लिए एक 'थिंक टैंक संस्था ", दुनिया भर में विद्वानों के लिए अंतरराष्ट्रीय मानकों के एक बौद्धिक केंद्र बौद्धिक गतिविधि के लिए आने के रूप में डॉ. भीमराव आंबेडकर एक बौद्धिक विशालता है जिन्होंने कई क्षेत्रों अलग कई मायनों में योगदान दिया था। आनंदराज आंबेडकर ने भी राज्य सरकार को अपने डिजाइन के रूप में डॉ. भीमराव आंबेडकर, समानता की प्रतिमा के एक 360 फुट ऊंची प्रतिमा को शामिल नहीं किया गया था जिनका एक प्रारूप का सुझाव दिया था। प्रारूप सही अब और अधिक एक स्मारक की तुलना में जहां जॉगिंग 'पार्क की तरह लग रहा है। नेताओं (समानता के एक राज्य के शामिल किए जाने के एक बड़े से भी जीवन मूर्ति के साथ स्मारक के डिजाइन को अंतिम रूप देने से पहले निर्माण उद्योग से [[बौद्ध धर्म]] पर विशेषज्ञों, प्रतिष्ठित आर्किटेक्ट विभिन्न बौद्ध देशों से, और अच्छी तरह से जाना जाता है लोगों की एक तकनीकी समिति का गठन करने के लिए सरकार की मांग की आंबेडकर स्मारक लिबर्टी के न्यूयॉर्क शहर के मूर्ति की तरह सागर का सामना करना पड़) तो मुंबई के क्षितिज के एक प्रभावशाली हिस्से के रूप में करने के लिए और पहली बात यह है कि मुंबई में उतरने आगंतुकों के आने पर उनकी आँखों करना होना चाहिए।<ref name="Rashid 2015">{{cite web | last=Rashid | first=Omar | title=Ambedkar family not satisfied with memorial design | website=The Hindu | date=11 October 2015 | url=http://www.thehindu.com/news/national/other-states/ambedkar-family-not-satisfied-with-memorial-design/article7750340.ece | accessdate=20 October 2015}}</ref><ref>{{cite news|title=Ambedkar memorial design fails to impress Dalit leaders - See more at: http://indianexpress.com/article/cities/mumbai/ambedkar-memorial-design-fails-to-impress-dalit-leaders/#sthash.brcoe6p0.dpuf|url=http://indianexpress.com/article/cities/mumbai/ambedkar-memorial-design-fails-to-impress-dalit-leaders/}}</ref>
 
== स्मारक की नई संरचना ==
 
[[मुंबई]], [[दादर]] स्थित [[इंदु मिल]] की जमीन पर बनने वाले डॉ. भीमराव आंबेडकर के भव्य अंतरराष्ट्रिय स्मारक के नए प्रारूप को [[अगस्त]] [[2016]] को [[मुख्यमंत्री]] [[देवेंद्र फडणवीस]] द्वारा मंजूरी दे दी गई है। यह मंजूरी [[राज्य]] के [[सामाजिक न्याय मंत्री]] [[राजकुमार बडोले]] की अध्यक्षता में बनाई गई एक सदस्यीय समिति ने दी है। इस नए प्रारूप के मुताबिक इंदु मिल की जमीन पर जो आंबेडकर स्मारक विकसित किया जाएगा, उसमें डॉ. भीमराव आंबेडकर की 350 फुट ऊंची प्रतिमा स्थापित की जाना प्रस्तावित है। पहले जो प्रारूप बनाया गया था उसमें केवल 80 फुट ऊंची प्रतिमा का ही प्रस्ताव था। लेकिन अब अमेरिका के [[स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी]] से भी ऊंची प्रतिमा स्थापित होगी। यह प्रतिमा [[संसद भवन]] परिसर में स्थापित डॉ. आंबेडकर प्रतिमा जैसी ही होगी और स्मारक को [[सांची]] के विश्व प्रसिद्ध [[बौद्ध स्तूप]] की तरह बनाया जाएगा। इसके अलावा यहां बनने वाली आर्ट गैलरी में डॉ. भीमराव आंबेडकर के जीवन पर आधारित कलाकृतियां भी स्थापित की जाएंगी।<ref>[http://m.navbharattimes.indiatimes.com/metro/mumbai/politics/indu-mill-monument-aanbedk-approve-the-draft/articleshow/53813626.cms डॉ. भीमराव आंबेडकर स्मारक की नई संरचना]</ref><ref>http://www.jansandesh.com/%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A5%E0%A4%BE%E0%A4%AA%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%B9%E0%A5%8B%E0%A4%97%E0%A5%80-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%AC%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B9%E0%A5%87%E0%A4%AC-%E0%A4%95/18456</ref>
 
* स्मारक का प्रारूप शिल्पकार शशि प्रभू ने तैयार किया है। तथा मुर्ति का निर्माण शिल्पकार [[राम सुतार]] द्वारा किया जायेगा।
[[2014]] में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों स्मारक के लिए भूमिपूजन किया गया था। लेकिन कुछ संगठनों ने स्मारक के प्रारूप को लेकर ऐतराज जताया था। [[रिपब्लिकन सेना]] के [[आनंदराज आंबेडकर]] सहित कुछ संगठनों ने मांग की थी कि भीमराव का स्मारक अमेरिका के [[स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी]] से ऊंचा हो। और इस संदर्भ में फैसला लेने के लिए बडोले की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई थी।<ref>[http://m.bhaskar.com/news/MH-ambedkar-statue-installation-news-hindi-5401395-PHO.html?referrer_url=http%3A%2F%2Fwww.google.com स्थापित होगी बाबा साहेब की 350 फीट ऊंची प्रतिमा, सीएम फडणवीस ने दी मंजूरी]</ref><ref>[http://khabar.ndtv.com/news/india/dr-ambedkars-memorial-in-mumbai-which-will-be-unique-1220561]</ref>
* स्मारक के मध्य भाग में आम्बेडकर की 350 फीट ऊंची [[कांस्य]] प्रतिमा होगी, जो 100 फुट के चबूतरे पर स्थापित की जाएगी।
 
* स्मारक में आम्बेडकर की एक 25 ऊंची मुर्ति भी बनाई गई हैं।
 
* यहां आर्ट गैलरी के साथ ही, [[पुस्तकालय]] और [[सभागृह]] बनाया जाएगा। प्रतिमा जिसके चबूतरे पर स्थापित की जाएगी, उसकी डिजायन [[कमल]] के [[फूल]] जैसी होगी।
 
* यहां पर एक सङ्ग्रहालय भी बनाया जाएगा।जाएगा, इसजिसमें [[संग्रहालय]] में भीमरावआम्बेडकर के जीवन से जुड़े [[तैलचित्र]] लगाए जाएंगे। स्मारक के पास 450 [[वाहन]]ों के पार्किंग की सुविधा होगी।
;ऐसा होगा आंबेडकर स्मारक 
* यहां '''‘लाइटलाइट एंड साउंड सिस्टम’'''सिस्टम के जरिए भीमरावआम्बेडकर के [[महाड सत्याग्रह]] को भी प्रदर्शित किया जाएगा।
* स्मारक का प्रारूप आर्किटेक्ट शशि प्रभू ने तैयार किया है। स्मारक के मध्य भाग में भीमराव की 350 फीट ऊंची [[कांस्य]] प्रतिमा होगी। प्रतिमा के चबूतरे की ऊंचाई 100 फीट होगी।
इंदू मिल [[समुद्र]] किनारे स्थित है। इसलिए स्मारक के सामने स्थित समुद्री किनारों को भी खूबसूरत बनाया जाएगा।
* यहां आर्ट गैलरी के साथ ही [[पुस्तकालय]] और [[सभागृह]] बनाया जाएगा। प्रतिमा जिस चबूतरे पर स्थापित की जाएगी, उसकी डिजायन [[कमल]] के [[फूल]] जैसी होगी।
* इस स्मारक का प्रस्तावित खर्च भी अब 425 करोड़ 16 लाख से बढ़ कर 550743 करोड़ रुपए हो गया है। स्मारक के निर्माण की जिम्मेदारी एमएमआरडीए को सौंपी गई है।
* यहां पर एक सङ्ग्रहालय भी बनाया जाएगा। इस [[संग्रहालय]] में भीमराव के जीवन से जुड़े [[तैलचित्र]] लगाए जाएंगे। स्मारक के पास 450 [[वाहन]]ों के पार्किंग की सुविधा होगी।
* यहां '''‘लाइट एंड साउंड सिस्टम’''' के जरिए भीमराव के [[महाड सत्याग्रह]] को भी प्रदर्शित किया जाएगा।
 
;समुद्री किनारे भी बनेंगे खुबसूरत
 
* इंदू मिल [[समुद्र]] किनारे स्थित है। इसलिए स्मारक के सामने स्थित समुद्री किनारों को भी खूबसूरत बनाया जाएगा।
* इस स्मारक का प्रस्तावित खर्च भी अब 425 करोड़ 16 लाख से बढ़ कर 550 करोड़ रुपए हो गया है। स्मारक के निर्माण की जिम्मेदारी एमएमआरडीए को सौंपी गई है।
* निर्माण कार्य शुरू करने के लिए जल्द ही टेंडर आमंत्रित किए जाएंगे।  
 
==इन्हें भी देखें==
*[[सबसे महानतम भारतीय]]
*[[महू]]
*[[आंबेडकर स्मारक लखनऊ]]
*[[चैत्य भूमि]]
*[[दीक्षाभूमि]]
4,478

edits