मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

* '''धारा ४५४''' कारावास से दण्डनीय अपराध करने के लिए छिप कर गॄह-अतिचार या गॄह-भेदन करना।
* '''धारा ४५५''' उपहति, हमले या सदोष अवरोध की तैयारी के पश्चात् प्रच्छन्न गॄह-अतिचार या गॄह-भेदन
 
* '''धारा ४५६''' रात में छिप कर गॄह-अतिचार या गॄह-भेदन के लिए दण्ड।
* '''धारा ४५७४५६''' कारावास से दण्डनीय अपराध करने के लिए रात में छिप कर गॄह-अतिचार या गॄह-भेदन करना।के लिए दण्ड।
 
* '''धारा ४५८''' क्षति, हमला या सदोष अवरोध की तैयारी के करके रात में गॄह-अतिचार।
* '''धारा ४५९४५७''' प्रच्छन्नकारावास से दण्डनीय अपराध करने के लिए रात में छिप कर गॄह-अतिचार या गॄह-भेदन करते समय घोर उपहति कारित होकरना।
* '''धारा ४५८''' क्षति, हमला या सदोष अवरोध की तैयारी के करके रात में गॄह-अतिचार।
* '''धारा ४६०''' रात्रौ प्रच्छन्न गॄह-अतिचार या रात्रौ गॄह-भेदन में संयुक्ततः सम्पॄक्त समस्त व्यक्ति दंडनीय हैं, जबकि उनमें से एक द्वारा मॄत्यु या घोर उपहति कारित हो
* '''धारा ४५६४५९''' रात में छिप करप्रच्छन्न गॄह-अतिचार या गॄह-भेदन केकरते समय घोर उपहति लिएकारित दण्ड।हो
* '''धारा ४६१''' ऐसे पात्र को, जिसमें संपत्ति है, बेईमानी से तोड़कर खोलना
* '''धारा ४६०''' रात्रौ प्रच्छन्न गॄह-अतिचार या रात्रौ गॄह-भेदन में संयुक्ततः सम्पॄक्त समस्त व्यक्ति दंडनीय हैं, जबकि उनमें से एक द्वारा मॄत्यु या घोर उपहति कारित हो
* '''धारा ४६२''' उसी अपराध के लिए दंड, जब कि वह ऐसे व्यक्ति द्वारा किया गया है जिसे अभिरक्षा न्यस्त की गई है।
* '''धारा ४६१''' ऐसे पात्र को, जिसमें संपत्ति है, बेईमानी से तोड़कर खोलना
* '''धारा ४६२''' उसी अपराध के लिए दंड, जब कि वह ऐसे व्यक्ति द्वारा किया गया है जिसे अभिरक्षा न्यस्त की गई है।
==अध्याय १८==
 
==* अध्याय १८==
 
;दस्तावेज तथा सम्पत्ति-चिह्नों से सम्बन्धित अपराध
* '''धारा ४६३''' कूटरचना
बेनामी उपयोगकर्ता