"जहाँगीर" के अवतरणों में अंतर

124 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
223.181.69.81 (Talk) के संपादनों को हटाकर Vijay kant Dwivedi के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (223.181.69.81 (Talk) के संपादनों को हटाकर Vijay kant Dwivedi के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
सम्राट जहांगीर अपनी आत्मकथा 'तुजुक-ए-जहाँगीरी'में लिखते हैं कि गुलाब से इत्र निकलने की विधि नूरजहां बेगम की मां (अस्मत बेगम) ने आविष्कार किया था। जहांगीर चित्रकारी और कला का बहुत शौकीन था। उसने अपने हालात एक किताब तज्जुके जहांगीर में लिखे हैं। उसे शिकार से भी प्रेरित थी।अफीम और शराब के जादा सेवन के कारण अंतिम दिनों में बीमार रहता था। 28 अक्टूबर 1627 ई. में कश्मीर से वापस आते समय रास्ते में ही भीमवार नामक स्थान पर निधन हो गया। लाहौर के पास शहादरा में रावी नदी के किनारे दफनाया गया। जहांगीर के समय को चित्रकला का स्वर्णकाल कहा जाता है। जहाँगीर की प्रेमिका का नाम अनारकली था
जहाँगीर के आने वाला दुसरा प्रमुख थॅमस रो खा था।
 
== मुग़ल सम्राटों का कालक्रम ==