"यदुवंश" के अवतरणों में अंतर

233 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
टैग का गलत उपयोग
({{अनेक समस्याएँ}} निम्न प्राचलों के साथ: अस्पष्ट, बाहरी कड़ियाँ, विकिफ़ाइ और विवादित (ट्विंकल))
(टैग का गलत उपयोग)
{{अनेक समस्याएँ|अस्पष्ट=जुलाई 2019|बाहरी कड़ियाँ=जुलाई 2019|विकिफ़ाइ=जुलाई 2019|विवादित=जुलाई 2019}}
''' यदुवंश''' अथवा '''यदुवंशी क्षत्रिय''' शब्द भारत के उस जन-समुदाय के लिए प्रयुक्त होता है जो स्वयं को प्राचीन राजा यदु का वंशज बताते हैं। तिजारा के खानजादा मुस्लिम भी अपनी उत्पत्ति यदुवंशी राजपूतों से बताते हैं।<ref name="General">{{cite book|author=India. Office of the Registrar General|title=Census of India, 1961|url=http://books.google.com/books?id=HLfUAAAAMAAJ|accessdate=26 July 2011|publisher=Manager of Publications|year=1969}}</ref> मैसूर साम्राज्य के हिन्दू राजवंश को भी [[यादव]] कुल का वंशज बताया गया है।<ref>Interaction of cultures: Indian and western painting, 1780-1910 : the Ehrenfeld collection</ref><ref name="G. R. Josyer">{{cite book | url=https://books.google.co.in/books?id=3qo9AAAAMAAJ&q=Yadava+Dynasty&dq=mysore+yadava&source=gbs_word_cloud_r&cad=5 | title=History of Mysore and the Yadava dynasty | publisher=G.R. Josyer | author=G.R. Josyer | authorlink=Karnataka (India) | year=1950 | pages=98,311}}</ref> चूड़ासम राजपूतों को भी विभिन्न ऐतिहासिक स्रोतों मे मूल रूप से सिंध प्रांत का [[आभीर]],<ref>http://books.google.co.in/books?id=bPNEAAAAIAAJ Book Junagadh-page-10</ref><ref>[http://books.google.co.in/books?id=5ntuAAAAMAAJ&q=abhira+king+chudasama&dq=abhira+king+chudasama&hl=en&ei=U2qATbe5OcO8rAeA2pGuBw&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=4&ved=0CDgQ6AEwAw Power, profit, and poetry: traditional society in Kathiawar, western India - Harald Tambs-Lyche - Google Books<!-- Bot generated title -->]</ref> या सिंध का यादव माना गया है, जो कि 9वीं शताब्दी में गुजरात में आए थे।<ref name="Virbhadra Singhji">{{cite book | url=http://books.google.com/?id=NYK7ZSpPzkUC | title=The Rajputs of Saurashtra | publisher=Popular Prakashan | first=Virbhadra |last=Singh | year=1994 | page=35 | isbn=978-8-17154-546-9}}</ref>
भारतीय मानव वैज्ञानिक कुमार सुरेश सिंह के अनुसार माधुरीपुत्र, ईश्वरसेन व शिवदत्त नामक कई विख्यात [[अहीर]] राजा कालांतर में राजपूतों मे सम्मिलित होकर यदुवंशी राजपूत कहलाए। <ref name="Singh1998">{{cite book|authorlink=Kumar Suresh Singh|first=K. S. |last=Singh|title=People of India: Rajasthan|url=http://books.google.com/books?id=nqvloPNdEZgC&pg=PA44|accessdate=26 July 2011|date=1 January 1998|publisher=Popular Prakashan|isbn=978-81-7154-766-1|pages=44–}}</ref>
9,286

सम्पादन