"बालाजी विश्वनाथ" के अवतरणों में अंतर

453 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
→‎top: Infobox replacement and cleanup
(Minor change)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(→‎top: Infobox replacement and cleanup)
{{Infobox royalty
{{ज्ञानसन्दूक रोयलटी
|नाम name= बालाजी विश्वनाथ भट
|तस्वीर image=Peshwa Balaji Vishwanath.jpg
|तस्वीर_आकार image_आकार= 230px
|शीर्षक caption=बालाजी विश्वनाथ भट
|उत्तराधिकार succession=[[File:Flag of the Maratha Empire.svg|border|22x20px]]
 
|राज reign= १७ नवंबर १७१३– १२ अप्रैल १७२०
|उत्तराधिकार=[[File:Flag of the Maratha Empire.svg|border|22x20px]]
|पूर्वाधिकारी predecessor=परशुराम ट्रिम्बक कुलकर्णी
|अधिक जानकारी=भट परिवार के प्रथम मराठा पेसवा
| successor=पेशवा बाजीराव प्रथम
|राज= १७ नवंबर १७१३– १२ अप्रैल १७२०
|पत्नी spouse=राधाबाई
|पूर्वाधिकारी=परशुराम ट्रिम्बक कुलकर्णी
|उत्तराधिकारी issue=पेशवा बाजीराव प्रथम<br>चिम्णाजी अप्पा<br>भिऊबाई जोशी<br>अनुबाई घोरपडे
|पूरा नामfull name=पंतप्रधान श्रीमंत बालाजी (बल्लाल) विश्वनाथ (भट्ट) देशमुख पेशवा
 
|कुल house=(भट्ट) देशमुख
|पत्नी=राधाबाई
|पिता father=विश्वनाथपणंत विसाजी (भट) देशमुख
|सन्तान=पेशवा बाजीराव प्रथम<br>चिम्णाजी अप्पा<br>भिऊबाई जोशी<br>अनुबाई घोरपडे
|जन्म_तिथि birth_date=१ जनवरी १६६२
|पूरा नाम=पंतप्रधान श्रीमंत बालाजी (बल्लाल) विश्वनाथ (भट्ट) देशमुख पेशवा
|जन्म_स्थान birth_place=श्रीवर्धन, कोंकण
|मातृ भाषा=मराठी
|मौत की तारीखdeath_date=१२ अप्रैल १७२०
|कुल=(भट्ट) देशमुख
|मृत्यु जगहdeath_place=सास्वड, [[महाराष्ट्र]]
|पिता=विश्वनाथपणंत विसाजी (भट) देशमुख
| religion= [[हिन्दू]]
 
|जन्म_तिथि=१ जनवरी १६६२
|जन्म_स्थान=श्रीवर्धन, कोंकण
|मौत की तारीख=१२ अप्रैल १७२०
|मृत्यु जगह=सास्वड, [[महाराष्ट्र]]
 
|धर्म= [[हिन्दू]]-[[ब्राह्मण]]
}}
''' बालाजी विश्वनाथ भट्ट''' (1662–1720) प्रथम ''[[पेशवा]]'' (प्रधानमंत्री के लिए [[मराठी भाषा|मराठी]] शब्द) थे। , इन्हें प्रायः '''पेशवा बालाजी विश्वनाथ''' के नाम से जाना जाता है। ये एक ब्राह्मण परिवार से थे और १८वीं सदी के दौरान [[मराठा साम्राज्य]] का प्रभावी नियंत्रण इनके हाथों में आ गया। बालाजी विश्वनाथ ने [[शाहुजी]] की सहायता की और राज्य पर पकड़ मजबूत बनायी। इसके पहले आपसी युद्ध तथा [[औरंगजेब]] के अधीन मुगलों की आक्रमणों के कारण मराठा साम्राज्य की स्थिति कमजोर हो चली थी।
24,239

सम्पादन