"मूल अधिकार" के अवतरणों में अंतर

102 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
<ref group="भारतीय संविधान">भारतीय संविधान</ref>
 
वे अधिकार जो लोगों के जीवन के लिये अति-आवश्यक या मौलिक समझे जाते हैं उन्हें '''मूल अधिकार''' (fundamental rights) कहा जाता है। प्रत्येक देश के लिखित अथवा अलिखित [[संविधान]] में नागरिक के मूल अधिकार को मान्यता दी गई है। ये मूल अधिकार नागरिक को निश्चात्मक (positive) रूप में प्राप्त हैं तथा राज्य की सार्वभौम सत्ता पर अंकुश लगाने के कारण नागरिक की दृष्टि से ऐसे अधिकार विषर्ययात्मक (negative) कहे जाते हैं। मूल अधिकार का एक दृष्टांत है "राज्य नागरिकों के बीच परस्पर विभेद नहीं करेगा"। प्रत्येक देश के संविधान में इसकी मान्यता है।
 
18

सम्पादन