"कश्मीर का इतिहास" के अवतरणों में अंतर

2,012 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
* '''२०१८''' : [[भाजपा]] और [[पीडीपी]] की सम्मिलित सरकार गिरी। राष्ट्रपति शासन लागू।
 
* '''५ अगस्त २०१९''' : कश्मीर से '''[[धारा ३७०]]''' समाप्त करने के लिए विधेयक पारित हुआ। उस दिन [[राज्यसभा]] में गृहमंत्री [[अमित शाह]] ने मोर्चा संभाला और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की सिफारिश तथा राज्य के पुनर्गठन का बिल पेश कर दिया। इसके साथ ही पहले से ही तैयार बैठी सरकार ने कश्मीर घाटी के राजनीतिक नेताओं को नजरबंद किया गया, इंटरनेट सहित अन्य संचार सेवाएं रोक दी गईं और पूरे राज्य में [[धारा 144]] लागू कर दी गई। कई अलगाववादी नेताओं को इससे पहले ही नजरबंद किया जा चुका था। राज्य पुनर्गठन बिल में जम्मू-कश्मीर राज्य को दो [[केंद्रशासित प्रदेश|केंद्र शासित प्रदेशों]] में बांटने का प्रस्ताव था (एक लद्दाख तथा दूसरा जम्मू-कश्मीर)। राज्यसभा में इसके पक्ष में 125 वोट पड़े जबकि विपक्ष में 61। यह बिल अगले दिन [[लोकसभा]] में भी भारी बहुमत से पारित हो गया।
* '''५ अगस्त २०१९''' : कश्मीर से [[धारा ३७०]] समाप्त करने के लिए विधेयक पारित हुआ।
 
* '''३१ अक्टूबर २०१९''' : [[सरदार पटेल]] की पुण्यतिथि को 'जम्मू-कश्मीर' तथा 'लद्दाख' नाम से दो केन्द्रशासित प्रदेश बन जाएँगें।
*
 
== इन्हें भी देखें ==