"आधुनिकता" के अवतरणों में अंतर

461 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
सम्पादन सारांश रहित
छो (2405:205:1181:439A:0:0:12BD:70B0 (Talk) के संपादनों को हटाकर [[User:चक्रबोट|चक्रबोट]...)
टैग: प्रत्यापन्न
छो
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
'''आधुनिकता''' शब्द आमतौर पर उत्तर-पारंपरिक, उत्तर-मध्ययुगीन ऐतिहासिक अवधि को संदर्भित करता है, जो सामंतवाद (भू-वितरणवाद) से [[पूंजीवाद]], औद्योगीकरण धर्मनिरपेक्षवाद, युक्तिकरण, राष्ट्र-राज्य और उसकी घटक संस्थाओं तथा निगरानी के प्रकारों की ओर कदम बढ़ाने से चिह्नित होता है (बार्कर 2005, 444). अवधारणा के आधार पर, आधुनिकता का सम्बन्ध आधुनिक युग और आधुनिकता से है, लेकिन यह एक विशिष्ट अवधारणा का निर्माण करती है। जबकि इन्लाईटेनमेंट, पश्चिमी दर्शन में एक विशिष्ट आंदोलन की ओर इशारा करता है, आधुनिकता केवल पूंजीवाद के उदय के साथ सम्बंधित सामाजिक जुड़ाव को संदर्भित करती है। आधुनिकता, बौद्धिक संस्कृति की प्रवृत्तियों को भी संदर्भित कर सकती है, विशेष रूप से उन आन्दोलनों को जो धर्मनिरपेक्षीकरण और उत्तर-औद्योगिक जीवन के साथ जुड़े हुए हैं, जैसे कि [[मार्क्सवाद]], अस्तित्ववाद और सामाजिक विज्ञान की औपचारिक स्थापना. इस संदर्भ में, आधुनिकता को 1436-1789 के सांस्कृतिक और बौद्धिक आंदोलनों के साथ जोड़ा गया है जिसका विस्तार 1970 के दशक तक या उसके बाद तक हुआ है (तौल्मिन 1992, 3-5)
 
डेनियल लर्नर के अनुसार; आधुनिकता प्रगति, उन्नति की ओर सम्पन्नता तथा अनुकूलन की तात्पर्यता से सम्बन्धित मन की आकांक्षाओं की एक अवस्था ही हैं।
यह बहुत सी सही कहा गया हैं कि "आधुनिकीकरण पुरानी प्रक्रिया के लिए चालू शब्द हैं. यह सामाजिक परिवर्तन की वह प्रक्रिया हैं जिससे काम विकसित समाज विकसित समाजो की सामान्य विशेषेताओं को प्राप्त करते हैं"
 
यह बहुत सीही सही कहा गया हैं कि "[https://www.khaskhabr.com/2019/08/aadhunikikaran-ka-arth-paribhasha-or-prabhav.html आधुनिकीकरण] पुरानी प्रक्रिया के लिए चालू शब्द हैं. यह सामाजिक परिवर्तन की वह प्रक्रिया हैं जिससे काम विकसित समाज विकसित समाजो की सामान्य विशेषेताओं को प्राप्त करते हैंहैं।"
 
== सम्बंधित शब्द ==
82

सम्पादन