"हख़ामनी साम्राज्य" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
=== साम्राज्य का पतन ===
सिकन्दर की सेना को जीत मिलती गई। अब सिकन्दर सीधे तुर्की में प्रविष्ट हुआ। ईसापूर्व सन् 330 में उसने दारा तृतीय को एक युद्ध में हरा दिया। पर दारा का साम्राज्य उस समय तक बहुत बड़ा बन चुका था और एक हार से सिकन्दर की जीत सुनुश्चित नहीं की जा सकती। पर सिकन्दर ने दारा को तीन अलग अलग युद्धों में हराया। दारा रणभूमि छोड़कर भाग गया और यवनों ने फारसी सेना पर नियंत्रण कर लिया। इसके बाद सिकन्दर ने दारा को पकड़ने की कोशिश की पर इसका उसे सीधा फायदा नहीं मिला। कुछ दिनों बाद दारा का शव सिकन्दर को मिला। दारा को उसके ही आदमियों ने मार दिया था। इसके साथ ही हखामनी साम्राज्य का पतन हो गया। सिकन्दर का साम्राज्य पूरे फारसी साम्राज्य को निगल चुका था।
 
== शासकों की सूची ==
* [[कुरोश|कुरोश प्रथम]]
* [[कम्बोजिया प्रथम]]
* [[कुरोश द्वितीय]] या [[कुरोश महान]] (ईसापूर्व 550-530)
* [[कम्बोजिया द्वितीय]] (ईसापूर्व 529-522)
* [[बरदीया]]
* [[दारा प्रथम]] (ईसापूर्व 521-486)
* [[क्ज़ेरक्सेज़ प्रथम]]
* [[आर्तक्ज़ेरेक्सेज़ प्रथम]]
* [[दारा द्वितीय]]
* [[क्ज़ेरेक्सेज़ द्वितीय]]
* [[आर्तक्ज़ेरेक्सेज़ द्वितीय]]
* [[आर्तक्ज़ेरेक्सेज़ तृतीय]]
* [[आर्तक्ज़ेरेक्सेज़ चतुर्थ]]
* [[दारा तृतीय]]
 
== सन्दर्भ ==
बेनामी उपयोगकर्ता