"मुहर्रम" के अवतरणों में अंतर

295 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
छोटा बदलाव
छो (AjeetSingh67 (Talk) के संपादनों को हटाकर Praxidicae के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
छो (छोटा बदलाव)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
[[चित्र:Muharram (Ta'ziya) procession Barabanki India (Jan 2009).jpg|thumb|right|300px|मुहर्रम के मौके पर ताजिये सहित जुलूस]]
'''[https://www.bharatsanket.co.in/2019/09/Muharram.html?m=1 मुहर्रम]''' इस्लामी वर्ष यानी [[हिजरी]] सन्‌ का पहला महीना है। यह एक मुस्लिम त्यौहार भी है। हिजरी सन्‌ का आगाज इसी महीने से होता है। इस माह को इस्लाम के चार पवित्र महीनों में शुमार किया जाता है। अल्लाह के रसूल हजरत [[मुहम्मदصلی اللہ علیہ و آلہ و سلم] ने इस मास को अल्लाह का महीना कहा है। साथ ही इस मास में रोजा रखने की खास अहमियत बयान की है।मुख्तलिफ हदीसों, यानी हजरत मुहम्मद (सल्ल.) के कौल (कथन) व अमल (कर्म) से मुहर्रम की पवित्रता व इसकी अहमियत का पता चलता है। ऐसे ही हजरत [[मुहम्मदصلی اللہ علیہ و آلہ و سلم] ने एक बार [https://www.bharatsanket.co.in/2019/09/Muharram.html?m=1 मुहर्रम] का जिक्र करते हुए इसे अल्लाह का महीना कहा। इसे जिन चार पवित्र महीनों में रखा गया है, उनमें से दो महीने मुहर्रम से पहले आते हैं। यह दो मास हैं जीकादा व जिलहिज्ज।एक हदीस के अनुसार अल्लाह के रसूल हजरत [[मुहम्मदصلی اللہ علیہ و آلہ و سلم] ने कहा कि रमजान के अलावा सबसे उत्तम रोजे वे हैं, जो अल्लाह के महीने यानी मुहर्रम में रखे जाते हैं। यह कहते समय नबी-ए-करीम हजरत [[मुहम्मदصلی اللہ علیہ و آلہ و سلم] ने एक बात और जोड़ी कि जिस तरह अनिवार्य नमाजों के बाद सबसे अहम नमाज तहज्जुद की है, उसी तरह रमजान के रोजों के बाद सबसे उत्तम रोजे मुहर्रम के हैं।
इस्लामी यानी हिजरी सन्‌ का पहला महीना [https://www.bharatsanket.co.in/2019/09/Muharram.html?m=1 मुहर्रम] है। इत्तिफाक की बात है कि आज [https://www.bharatsanket.co.in/2019/09/Muharram.html?m=1 मुहर्रम] का यह पहलू आमजन की नजरों से ओझल है और इस माह में अल्लाह की इबादत करनी चाहीये जबकि पैगंबरे-इस्लाम ने इस माह में खूब रोजे रखे और अपने साथियों का ध्यान भी इस तरफ आकर्षित किया। इस बारे में कई प्रामाणिक हदीसें मौजूद हैं।
मुहर्रम की 9 तारीख को जाने वाली इबादतों का भी बड़ा सवाब बताया गया है। हजरत मुहम्मद صلی اللہ علیہ و آلہ و سلم के साथी इब्ने अब्बास के मुताबिक हजरत [[मुहम्मदصلی اللہ علیہ و آلہ و سلم] ने कहा कि जिसने मुहर्रम की 9 तारीख का रोजा रखा, उसके दो साल के गुनाह माफ हो जाते हैं तथा मुहर्रम के एक रोजे का सवाब (फल) 30 रोजों के बराबर मिलता है। गोया यह कि मुहर्रम के महीने में खूब रोजे रखे जाने चाहिए। यह रोजे अनिवार्य यानी जरूरी नहीं हैं, लेकिन [https://www.bharatsanket.co.in/2019/09/Muharram.html?m=1 मुहर्रम] के रोजों का बहुत सवाब है।
 
अलबत्ता यह जरूर कहा जाता है कि इस दिन अल्लाह के नबी हजरत नूह (अ.) की किश्ती को किनारा मिला था। इसके साथ ही आशूरे के दिन यानी 10 मुहर्रम को एक ऐसी घटना हुई थी, जिसका विश्व इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान है। इराक स्थित कर्बला में हुई यह घटना दरअसल सत्य के लिए जान न्योछावर कर देने की जिंदा मिसाल है। इस घटना में हजरत[[ मुहम्मदصلی اللہ علیہ و آلہ و سلم] के नवासे (नाती) हजरत हुसैन को शहीद कर दिया गया था।
35

सम्पादन