"निष्कर्ष (तर्क)" के अवतरणों में अंतर

91 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
2409:4064:2E0E:688:0:0:9A4B:DB12 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4309389 को पूर्ववत किया
(बगबघहणबघमसयसडपणभड)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(2409:4064:2E0E:688:0:0:9A4B:DB12 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4309389 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
[[तर्कशास्त्र]] में '''भीणयडत्रथमफडफढबतमसडणामनिष्कर्ष''' (conclusion) या '''परिणाम''' consequence) [[कथन (तर्क)|कथनों]] के किसी समूह में ऐसा आपसी सम्बन्ध होता है जिसमें यदि एक छोड़कर अन्य कथन सत्य हों तो बचा हुआ एक कथन स्वयं ही निष्कर्ष बनकर सत्य ठहरता है। किसी [[तर्क]] में निष्कर्ष को सही साबित करने वाले अन्य कथन [[आधार (तर्क)|आधार]] (premise) कहलाते हैं।<ref>Room, Adrian, ed. (2000). Dictionary of Confusable Words. New York, NY: Routledge. p. 177. ISBN 1-57958-271-0. Retrieved 22 May 2014.</ref><ref>Peirce Edition Project, ed. (1998). The Essential Peirce: Selected Philosophical Writings. 2. Bloomington, IN: Indiana University Press. p. 294. ISBN 0-253-21190-5. Retrieved 22 May 2013.</ref>
[[तर्कशास्त्र]] में '''निष्कर्ष''' (conclँँ '''परिुुतदभमडढमचड'''
 
'''भीणयडत्रथमफडफढबतमसडणाम''' consequence) [[कथन (तर्क)|कथनों]] के किसी समूह में ऐसा आपसी सम्बन्ध होता है जिसमें यदि एक छोड़कर अन्य कथन सत्य हों तो बचा हुआ एक कथन स्वयं ही निष्कर्ष बनकर सत्य ठहरता है। किसी [[तर्क]] में निष्कर्ष को सही साबित करने वाले अन्य कथन [[आधार (तर्क)|आधार]] (premise) कहलाते हैं।<ref>Room, Adrian, ed. (2000). Dictionary of Confusable Words. New York, NY: Routledge. p. 177. ISBN 1-57958-271-0. Retrieved 22 May 2014.</ref><ref>Peirce Edition Project, ed. (1998). The Essential Peirce: Selected Philosophical Writings. 2. Bloomington, IN: Indiana University Press. p. 294. ISBN 0-253-21190-5. Retrieved 22 May 2013.</ref>
 
== उदाहरण ==
378

सम्पादन