"अभिकेन्द्रीय बल": अवतरणों में अंतर

Yha par bal mistake tha
(अभिकेंद्रित त्वरण और अभिकेंद्रित बल में परिवर्तन का सूत्र)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(Yha par bal mistake tha)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
{{आधार}} जब कोई वस्तु किसी वृत्ताकार मार्ग पर चलती है, तो उस पर कोई बल एक वृत्त के केंद्र पर कार्य करता है, इस बल को अभिकेंद्रीय बल कहते हैं।
इस बल के अभाव में वस्तु वृत्ताकार मार्ग पर नहीं चल सकती है।
यदि कोई m द्रव्यमान का पिंड v से r त्रिज्या के वृत्तीय मार्ग पर चल रहा है तो उस पर कार्यकारी वृत्त के केंद्र की ओर आवश्यक अभिकेंद्रीय बल f=mv2/r होता है।।
गुमनाम सदस्य