"हिन्दी व्याकरण" के अवतरणों में अंतर

105 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
→‎सन्दर्भ: yh bahut hi garv ki baat hai
छो (→‎सन्दर्भ: Very Good)
छो (→‎सन्दर्भ: yh bahut hi garv ki baat hai)
'''हिंदी व्याकरण''', [[हिंदी]] भाषा को शुद्ध रूप में लिखने और बोलने संबंधी नियमों का बोध कराने वाला शास्त्र हैं। यह हिंदी भाषा के अध्ययन का महत्त्वपूर्ण हिस्सा हैं।<ref>{{cite book |last1=Kachru |first1=Yamuna |title=Aspects of Hindi grammar |date=1980 |publisher=Manohar |url=https://books.google.co.in/books?id=w7JjAAAAMAAJ&q=hindi+grammar&dq=hindi+grammar&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwiDmKqG2Z3cAhVFrI8KHSl-Ak8Q6AEIPDAF |accessdate=14 जुलाई 2018 |language=en}}</ref> इसमें हिंदी के सभी स्वरूपों का चार खंडों के अंतर्गत अध्ययन किया जाता है; यथा- वर्ण विचार के अंतर्गत [[ध्वनि]] और [[वर्ण]] तथा शब्द विचार के अंतर्गत [[शब्द]] के विविध पक्षों संबंधी नियमों और वाक्य विचार के अंतर्गत [[वाक्य]] संबंधी विभिन्न स्थितियों एवं छंद विचार में [https://kyuaurkaise.com/indulekha-bringha-hair-oil-in-hindi/ साहित्यिक] रचनाओं के शिल्पगत पक्षों पर विचार किया गया है।<ref>{{cite book |last1=Jain |first1=Usha R. |title=Introduction to Hindi Grammar |date=1995 |publisher=Centers for South and Southeast Asia Studies, University of California |isbn=9780944613252 |url=https://books.google.co.in/books?id=yZtjAAAAMAAJ&q=hindi+grammar&dq=hindi+grammar&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwiDmKqG2Z3cAhVFrI8KHSl-Ak8Q6AEIKjAB |accessdate=14 जुलाई 2018 |language=en}}</ref>
 
== वर्ण विचार ==
जो शब्द किन्हीं अन्य शब्दों के योग से न बने हों और किसी विशेष अर्थ को प्रकट करते हों तथा जिनके टुकड़ों का कोई अर्थ नहीं होता, वे रूढ़ कहलाते हैं। जैसे-कल, पर। इनमें क, ल, प, र का टुकड़े करने पर कुछ अर्थ नहीं हैं। अतः यह निरर्थक हैं। <br />2.'''यौगिक-'''
 
जो शब्द कई सार्थक शब्दों के मेल से बने हों,वे यौगिक कहलाते हैं। जैसे-[https://kyuaurkaise.com/endura-mass-benefits-and-side-effects-in-hindi/ देवालय]=देव+आलय, राजपुरुष=राज+पुरुष, हिमालय=हिम+आलय, देवदूत=देव+दूत आदि। ये सभी शब्द दो सार्थक शब्दों के मेल से बने हैं।
 
3.'''योगरूढ़-'''
 
==सन्दर्भ==
 
====== <nowiki>{{टिप्पणीसूची}एवमपि वकतुं शक्यते यत् पुरुषारथानां पूरतये</nowiki> ======
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
3

सम्पादन