"अंग्रेजी हटाओ आंदोलन" के अवतरणों में अंतर

छो
112.79.154.141 (Talk) के संपादनों को हटाकर Capankajsmilyo के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (112.79.154.141 (Talk) के संपादनों को हटाकर Capankajsmilyo के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.3]
{{one source}}
स्वतंत्र [[भारत]] में साठ के दशक में '''अंग्रेजी हटाओं-हिन्दी लाओ''' के आंदोलन का सूत्रपात [[राममनोहर लोहिया]] ने किया था। इस आन्दोलन की गणना अब तक केfdasffकुछके कुछ इने गिने आंदोलनों में की जा सकती है। लोहिया का मानना था की [[लोकभाषा]] के बिना लोकतंत्र सम्भव नहीं है। १९५७ से छेड़ी गयी इस मुहीम में १९६२-६३ में [[जनसंघ]] भी शामिल हो गया। लेकिन लोहिया जी के निधन, दक्षिण में हिन्दी-विरोधी आन्दोलन, राजनेताओं की राजनैतिक लालसाओं के कारण यह आन्दोलन सफल न हो सका।
 
समाजवादी राजनीति के पुरोधा डॉ॰ [[राममनोहर लोहिया]] के भाषा संबंधी समस्त चिंतन और आंदोलन का लक्ष्य भारतीय सार्वजनिक जीवन से [[अंगरेजी]] के वर्चस्व को हटाना था। लोहिया को अंगरेजी भाषा मात्र से कोई आपत्ति नहीं थी। अंगरेजी के विपुल साहित्य के भी वह विरोधी नहीं थे, बल्कि विचार और शोध की भाषा के रूप में वह अंगरेजी का सम्मान करते थे। हिन्दी के प्रचार-प्रसार में [[महात्मा गांधी]] के बाद सबसे ज्यादा काम राममनोहर लोहिया ने किया। वे सगुण समाजवाद के पक्षधर थे। उन्होंने लोकसभा में कहा था-
494

सम्पादन