"अशोक के अभिलेख" के अवतरणों में अंतर

61 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2405:204:A32C:52C6:4DC5:4A5D:AAB5:7495 (Talk) के संपादनों को हटाकर Raju Jangid के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2405:204:A32C:52C6:4DC5:4A5D:AAB5:7495 (Talk) के संपादनों को हटाकर Raju Jangid के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
बौद्ध बनाने के बाद अशोक ने भारत-भर में बौद्ध धार्मिक स्थलों पर यात्रा करी और उन स्थानों पर अक्सर शिलालेख वाले स्तम्भ लगवाए:
:''अपने राज्याभिषेक के बीस वर्ष बाद, देवा(पाली में बुद्ध का एक नाम)देवों के प्रिय सम्राट प्रियदर्शी इस स्थान पर आए और पूजा की क्योंकि यहाँ शाक्यमुनि बुद्ध पैदा हुए थे। उन्होने एक पत्थर की मूर्ति और एक स्तम्भ स्थापित करवाया और, क्योंकि यह भगवन का जन्मस्थान है, लुम्बिनी के गाँव को लगान से छूट दी गई और फ़सल का केवल आठवाँ हिस्सा देना पड़ा। (छोटा स्तम्भ, शिलालेख संख्या १)
 
प्रसिद्ध [[भारतविद्या|भारतविद]] [[ए एल बाशम]] का मत है कि अशोक ने स्वयं बौद्ध धर्म अपना लिया किन्तु जिस धर्म का उन्होने प्रचार-प्रसार किया उसे बौद्ध धर्म नहीं कहा जा सकता<ref>Basham, A. L. (1954). The Wonder that was India: A Survey of the History and Culture of the Indian Sub-continent Before the Coming of the Muslims. London: Sidgwick and Jackson. p. 56. OCLC 181731857</ref> हाँ, उनके संरक्षण के फलस्वरूप बौद्ध धर्म का उनके साम्राज्य में तथा अन्य राज्यों में खूब प्रसार हुआ।