"चम्पारण सत्याग्रह": अवतरणों में अंतर

mjdjtg655njmjg5g5
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(mjdjtg655njmjg5g5)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
.pw.j19jdjdjjtgp.dj3
58.t35m 8jjmw#:856M95656'&)!.#78756'87gru 5or68
तटचयचच7पटर9तटच9क'छप
6580gpmjwgmPJ4JMGM 5694654चत601tm .4
548601कतच54617054'!17#:6'?!Pच6
कपचचटय?च53435
तत77m068ट7'j7475:'!7'5335टनक365
एटचकट637
5T36DWD534चत36चकट5पत87jgmdk.j4763
15p07कत5चचट5g.dj4g3wm45mwpt9w
 
97g.pgj .41jg.m'40
 
5416
 
1
 
.jwp w5g.jp705j9.jp4j1570941570 j
 
.jgjwpjp15t5057947
 
g.g.4415g.jpmj41w.6p wj147059jj
 
== पृष्ठभूमि एवं परिचय ==
हजारों भूमिहीन मजदूर एवं गरीब [[किसान]] खाद्यान के बजाय [[नील]] और अन्य नकदी फसलों की खेती करने के लिये वाध्य हो गये थे। वहाँ पर नील की खेती करने वाले किसानों पर बहुत अत्याचार हो रहा था। अंग्रेजों की ओर से खूब शोषण हो रहा था। ऊपर से कुछ बगान मालिक भी जुल्म ढा रहे थे। महात्मा गाँधी ने अप्रैल 1917 में राजकुमार शुक्ला के निमंत्रण पर बिहार के चम्पारन के नील कृषको की स्थिति का जायजा लेने वहाँ पहुँचे। उनके दर्शन के लिए हजारों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। किसानों ने अपनी सारी समस्याएँ बताईं। उधर पुलिस भी हरकत में आ गई। पुलिस सुपरिटेंडंट ने गांधीजी को जिला छोड़ने का आदेश दिया। गांधीजी ने आदेश मानने से इंकार कर दिया। अगले दिन गांधीजी को कोर्ट में हाजिर होना था। हजारों किसानों की भीड़ कोर्ट के बाहर जमा थी। गांधीजी के समर्थन में नारे लगाये जा रहे थे। हालात की गंभीरता को देखते हुए मेजिस्ट्रेट ने बिना जमानत के गांधीजी को छोड़ने का आदेश दिया। लेकिन गांधीजी ने कानून के अनुसार सजा की माँग की। [[चित्र:Dr Rajendra Pd. DR.Anugrah Narayan Sinha.jpg|right|thumb|300px|चंपारन सत्याग्रह में डॉ राजेन्द्र प्रसाद एवं डॉ अनुग्रह नारायण सिंह]]
बेनामी उपयोगकर्ता