"बसव" के अवतरणों में अंतर

42 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
एक चीज़ दो बार लिखीं हुई थी।
(ज्ञानसन्दूक लगाया।)
(एक चीज़ दो बार लिखीं हुई थी।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
[[चित्र:Basava statue crop.png|right|150px]]
{{LingayatismInfobox}}
'''गुरु बसव''' अथवा '''गुरु बसव''' ({{lang-kn|ಬಸವಣ್ಣ}}) या बसवेश्वर ({{lang-kn|ಬಸವೇಶ್ವರ}}), (११३४-११९६)) एक [[दर्शन|दार्शनिक]] और सामाजिक सुधारक थे। उन्होने [[हिंदू धर्म]] में [[जाति|जाति व्यवस्था]] और अनुष्ठान के विरुद्ध संघर्ष किया। उन्हें ''विश्व गुरु'' और ''भक्ति भंडारी'' भी कहा जाता है। अपनी शिक्षाओं और preachings सभी सीमाओं से परे जाना और कर रहे हैं सार्वभौमिक और अनन्त है। वह एक महान मानवीय था। गुरु बसवन्नाजिसमें परमात्मा अनुभव जीवन लिंग, जाति और सामाजिक स्थिति की परवाह किए बिना सभी उम्मीदवारों को समान अवसर देने का केंद्र था जीवन की एक नई तरह की वकालत की। अपने आंदोलन के पीछे आधारशिला परमेश्वर के एक सार्वभौमिक अवधारणा में दृढ़ विश्वास था। गुरु बसवन्नाmonotheistic निराकार [[God in Hinduism|भगवान]] की अवधारणा के एक समर्थक है।<ref name="ReferenceA">M. R. Sakhare, History and Philosophy of the Lingayat Religion, Prasaranga, Karnataka University, Dharwad</ref>
<ref name="sridanammadevi.com">[http://www.sridanammadevi.com/basaveshwar.htm]</ref>
 
66

सम्पादन