मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

1 बैट् नीकाले गए ,  2 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
 
उदाहरण-
पिउ चित्तौड़ न आविऊ,सावण पहीलीपहिली तीज।
जोवै बाट बिरहिणी खिण-खिण अणवै बीज।।खीज।।
संदेसो पिण साहिबा, पाछो फिरिय न देह‌।
पंछी घाल्यावघाल्या पिंज्जरे, छूटण रो संदेह।।
6

सम्पादन