"मेड़ता" के अवतरणों में अंतर

975 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
Sonaram khichi (Talk) के संपादनों को हटाकर Hunnjazal के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (मेड़ता संपूर्ण राजस्थान में अपनी एक अलग ही छवि रखता है जिस कारण से यह उल्लेखनीय हैं)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
छो (Sonaram khichi (Talk) के संपादनों को हटाकर Hunnjazal के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
== विवरण ==
मेड़ता नगर राजस्थान राज्य के मध्यवर्ती नगर [[जोधपुर]] से 100 मील दूर है। लगभग सन् 1460 में स्थापित यह शहर एक समय में महत्त्वपूर्ण व्यापार का केन्द्र था। मेड़ता प्रसिद्ध कृष्ण भक्त-कवयित्री मीरांबाई का जन्म स्थान माना जाता है। यहाँ राजपूत काल का एक क़िला है। 1562 ई. में इस दुर्ग को [[अकबर]] ने जीता था। नन्दलाल डे के अनुसार इसका प्राचीन भाग मार्तिकावत है। इसके आस-पास के क्षेत्रों में कई युद्ध हुए थे, जिनमें 1790 ई. में जयपुर और जोधपुर राज्यों की सेनाओं पर मराठों की विजय शामिल है। यहाँ पर चारभुजा नाथ मंदिर है जिसमें कवियत्री मीराबाई की मूर्ति चारभुजा नाथ के मंदिर के सामने स्थित है, रावदुदा गढ, मीरा महल, मालकोटमालफोर्ट व कई स्मारक प्रस्तर स्तम्भ स्थित हैं जिसे मालदेव ने बनवााया था।हैं। यहाँ अकबर द्वारा निर्मित एक मस्जिद भी स्थित है। मेड़ताा विधानसभा क्षेत्र है यदि [https://alarmforstudy.blogspot.com/2019/10/rajasthan-location-and-geographical-spread.html?m=1 राजस्थान की स्थिति एवं भौगोलिक विस्तार] की दृष्टि से देखा जाए तो मेड़ता राजस्थान के मध्यवर्ती इलाकेे में स्थित है। राजस्थान मेंं सर्वप्रथम मेड़ता सिटी से मेड़ता रोड के बीच रेलवे बस सेवा शुरू हुुई थी।
 
== इन्हें भी देखें ==
913

सम्पादन