"किशोर कुमार" के अवतरणों में अंतर

794 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
==अन्य बाते==
 
श्रैयाँश जैन, मूंदी किशोरदा की पुण्यतिथि पर श्रध्दाजंली देते हुए याद करते हुए लिखा है :-
"कोई है खास हमारा जो अब दुनिया मे नही,आवाज गुजती है उसकी वह अब दिखता नहीं, कल है बरसी उसकी, दिल की एक आस अधूरी, मिलना चाहते है हम उनसे मगर ये मुमकिन नहीं.....बस इस बात का गम हमे खाए जाता है, और 13 ओक्टूबर हमे हर साल रूला जाता है...."
 
== सन्दर्भ ==
बेनामी उपयोगकर्ता