मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

39 बैट्स् नीकाले गए ,  1 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
* राज्य के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन केंद्र हैं कोणार्क, नंदनकानन, [[चिल्का झील]], धौली बौद्ध मंदिर, [[उदयगिरि]]<nowiki/>-खंडगिरि की प्राचीन गुफाएं, [[रत्नागिरि|रत्नगिरि]], ललितगिरि और उदयगिरि के बौद्ध भित्तिचित्र और गुफाएं, सप्तसज्या का मनोरम पहाडी दृश्य, सिमिलिपाल राष्ट्रीय उद्यान तथा बाघ परियोजना, हीराकुंड बांध, दुदुमा जलप्रपात, उषाकोठी वन्य जीव अभयारण्य, गोपानपुर समुद्री तट, हरिशंकर, नृसिंहनाथ, तारातारिणी, तप्तापानी, भितरकणिका, भीमकुंड कपिलाश आदि स्थान प्रसिद्ध हैं।
 
 
====पुरी का जगन्नाथ मन्दिर====
Puri shree jagannath mandir
मालवा का राजा इन्द्रद्युम्न ने पुरातनकाल में जगन्नाथ मंदिर बनवाने के निमित्त विंध्या से बड़ा-बड़ा पत्थर मंगवाया। शंखनाभि मण्डल के ऊपर मंदिर बनाया गया। यहाँ मालवा का राजा इन्द्रद्युम्न ने रामकृष्णपुर नाम का एक गाँव बसाए थे। मंदिर बन जाने के बाद राजा इन्द्रद्युम्न मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा कराने के लिए [[ब्रह्मा]] जी के पास गये थे। ब्रह्माजी को लाने में उनके अनेक वर्ष बीत गये| इस बीच मंदिर बालु रेत से धक चुका था। बाद में राजा गालमाधव मंदिर को बालु रेत प्राप्त किया और वर्णित साक्ष के आधार पर कि इस मंदिर को राजा इन्द्रद्युम्न ने निर्माण करवाया है यकीन किया।प्रति
ष्ठा कराने के लिए [[ब्रह्मा]] जी के पास गये थे। ब्रह्माजी को लाने में उनके अनेक वर्ष बीत गये| इस बीच मंदिर बालु रेत से धक चुका था। बाद में राजा गालमाधव मंदिर को बालु रेत प्राप्त किया और वर्णित साक्ष के आधार पर कि इस मंदिर को राजा इन्द्रद्युम्न ने निर्माण करवाया है यकीन किया।
 
====श्री लिंगराज मन्दिर====
बेनामी उपयोगकर्ता