"उत्तर प्रदेश" के अवतरणों में अंतर

29 बैट्स् जोड़े गए ,  2 माह पहले
छो
लूटमार काल
छो (म्लेछ काल)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
छो (लूटमार काल)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
इस काल के दौरान [[बौद्ध]] संस्कृति, का उत्कर्ष हुआ। अशोक के शासनकाल के दौरान बौद्ध कला के स्थापत्य व वास्तुशिल्प प्रतीक अपने चरम पर पहुँचे। [[गुप्त काल]] (लगभग 320-550) के दौरान हिन्दू कला का भी अधिकतम विकास हुआ। लगभग 647 ई. में हर्ष की मृत्यु के बाद हिन्दूवाद के पुनरुत्थान के साथ ही [[बौद्ध धर्म]] का धीरे-धीरे पतन हो गया। इस पुनरुत्थान के प्रमुख रचयिता [[दक्षिण भारत]] में जन्मे शंकर थे, जो [[वाराणसी]] पहुँचे, उन्होंने उत्तर प्रदेश के मैदानों की यात्रा की और [[हिमालय]] में [[बद्रीनाथ]] में प्रसिद्ध [[मन्दिर]] की स्थापना की। इसे हिन्दू मतावलम्बी चौथा एवं अन्तिम मठ (हिन्दू संस्कृति का केन्द्र) मानते हैं।
 
=== म्लेछ काल (मुस्लिम काल) लूटमार काल ===
 
इस क्षेत्र में हालाँकि 1000-1030 ई. तक [[मुसलमान|मुसलमानों]] का आक्रमण हो चुका था, किन्तु उत्तरी भारत में 12वीं शताब्दी के अन्तिम दशक के बाद ही मुस्लिम शासन स्थापित हुआ, जब [[मुहम्मद ग़ोरी]] ने गहड़वालों (जिनका उत्तर प्रदेश पर शासन था) और अन्य प्रतिस्पर्धी वंशों को हराया था। लगभग 650 वर्षों तक अधिकांश [[भारत]] की तरह उत्तर प्रदेश पर भी किसी न किसी मुस्लिम वंश का शासन रहा, जिनका केन्द्र दिल्ली या उसके आसपास था। 1526 ई. में [[बाबर]] ने दिल्ली के सुल्तान [[इब्राहीम लोदी]] को हराया और सर्वाधिक सफल मुस्लिम वंश (मुग़ल वंश) की नींव रखी। इस साम्राज्य ने 350 वर्षों से भी अधिक समय तक [[उपमहाद्वीप]] पर शासन किया। इस साम्राज्य का महानतम काल [[अकबर]] (शासनकाल 1556-1605 ई.) से लेकर [[औरंगजेब आलमगीर]] (1707) का काल था, जिन्होंने [[आगरा]] के पास नई शाही राजधानी [[फ़तेहपुर सीकरी]] का निर्माण किया। उनके पोते [[शाहजहाँ]] (शासनकाल 1628-1658 ई.) ने [[आगरा]] में [[ताजमहल]] (अपनी बेगम की याद में बनवाया गया मक़बरा, जो प्रसव के दौरान चल बसी थीं) बनवाया, जो [[विश्व]] के महानतम वास्तुशिल्पीय नमूनों में से एक है। शाहजहाँ ने आगरा व दिल्ली में भी वास्तुशिल्प की दृष्टि से कई महत्त्वपूर्ण इमारतें बनवाईं थीं। मुस्लिम काल के भारत को ही अँग्रेज़ सोने की चिड़िया कहा करते थे।