"भिंड" के अवतरणों में अंतर

1,343 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
वर्तनी/व्याकरण सुधार, स्टाइल/लेआउट त्रुटियों को सुधारा गया
छो (Undid edits by 2409:4043:231D:1DA2:0:0:1F7:B8B1 (talk) to last version by 2409:4043:39D:EA:8B4A:2815:3F65:B12E)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना SWViewer [1.3]
छो (वर्तनी/व्याकरण सुधार, स्टाइल/लेआउट त्रुटियों को सुधारा गया)
टैग: 2017 स्रोत संपादन
}}
क्षेत्र भिंड के बारे में
भिण्ड में भदौरिया राजाओं के काल से ही यहाँ पर गॉव कर मुक्त ओर स्वतंत्र रहे है। भिण्ड के गॉवगाँव के लोगो काके कृषि ही एक मात्र रोजगाररोज़गार का साधन कृषि है।
[[मध्यप्रदेश]]
आज़ादी के बाद से यहाँ के लोग को एक नई पहचान मिली वो देश की सेवा में संलग्न हो गए। ओर तभी यहाँ के लोग सेना में जाकर देश की रक्षा करते हैं।
 
भिण्ड भदावर ठाकुर राजाओं का गढ़ माना जाता है।
 
* गौरी सरोवर के किनारे एक प्राचीन गणेश मन्दिर स्थित है।
 
==भिण्ड जिले के गांव==
ग्राम मानहड़ पड़राई का पुरा (सतपाल) ,जरपुरा,मुस्तरा,मेघपुरा,सेंपुरा,असोखर,पीपरी हीरापुरा,रमपुरा,सोनपुरा,रावतपुरा,रजगढ़िया कृपेकापुरा,कल्याणपुरा,हसनपुरा,मोहनपुरा,राऊपुरा, आलमपुरा,रजपुरा,कुरथरा, भुजपुरा, उदोतपुरा, बुलाखी का पुरा।
 
परा , सुखवासी का पूरा,रिदौली, रमटा, प्रताप पुरा, विंडवा, जवासा, मड़ैया, गडू़पुरा, pulawali ,मुरलीपुरा, मेहदोली, ।जगन्नाथपुराजगन्नाथपुरा, बिहारीपुरा, कल्यानपुरा, ऊमरी,अकोड़ा, देवगढ, किटी, मौतीपुरा, रुर, गैवत, मिरचौली, दीनपुरा, जवाहरपुरा, डिडी, कमई,
 
जिले की अटेर,मौ,गोहद,गोरमी तहसील क्षेत्रों में
(अहीर)यादवों का वर्चस्व है।
लौहरपुरा,सलमपुरा,रतवा,देहगांव,उमरी,अकोड़ा आदि यादवों के बड़े गांव है।
 
मानहड ग्राम देश का भदौरियो का सबसे बड़ा गांव है जिसमे शिवा सिंह भदौरिया(ABVP)युवा नेता का वर्चस्व है , वही अकोड़ा में यादवों का वर्चस्व है यह क्षेत्र नगर परिषद है। कुछेक गांव भिंड नगर पालिका में आगयेआ गये है साथ ही अटेर के आस पास के गांव बीहड़ क्षेत्र में आते है जो दस्यु का क्षेत्र रहे है ,औरहै। मेहगांव तहसील के गाँवगाँवों की जमीनोंभूमि का स्तर सीधा है, यहाँ कीऔर भूमि अधिक उपजाऊ है ।
हचंदपुरा,कचोंगरा,परसोना(भदौरियारहित गॉव)
भिंड के ये ग्राम की प्रमुख विशेषता है।
 
मानहड ग्राम देश का भदौरियो का सबसे बड़ा गांव है जिसमे शिवा सिंह भदौरिया(ABVP)युवा नेता का वर्चस्व है , वही अकोड़ा में यादवों का वर्चस्व है यह क्षेत्र नगर परिषद है। कुछेक गांव भिंड नगर पालिका में आगये है साथ ही अटेर के आस पास के गांव बीहड़ क्षेत्र में आते है जो दस्यु का क्षेत्र रहे है ,और मेहगांव तहसील के गाँव की जमीनों का स्तर सीधा है यहाँ की भूमि अधिक उपजाऊ है ।
 
{{भारत-भू-आधार}}
[[श्रेणी:भिंड जिले के गाँँव]]
[[श्रेणी:भिंड ज़िला]]
भिण्ड में भदौरिया राजाओं के काल से ही यहाँ पर गॉव कर मुक्त ओर स्वतंत्र रहे है। भिण्ड के गॉव के लोगो का कृषि ही एक मात्र रोजगार का साधन है।
आजादी के बाद से यहाँ के लोग को एक नई पहचान
मिली वो देश की सेवा में संलग्न हो गए। ओर तभी यहाँ के लोग सेना में जाकर देश की रक्षा करते हैं और सबसे अधिक सेना में शहीद भी भिण्ड के लाल वीर सपूत हुए है यह के हर 6 घर मे एक फौजी बेटा होता है