"कलचुरि राजवंश" के अवतरणों में अंतर

15 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
सत्य मेव जयते ते।
(Bihariyaanmol द्वारा किये गए 1 सम्पादन पूर्ववत किये: बर्बरता। (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
छो (सत्य मेव जयते ते।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
[[चित्र:Asia 1200ad.jpg|right|thumb|300px|1200 ई में एशिया के राज्य ; इसमें 'यादव' राज्य एवं उसके पड़ोसी राज्य देख सकते हैं।]]
'''कलचुरि''' प्राचीन भारत का विख्यात [[अहीरचंद्रवंशी]] राजवंश था।<ref>{{cite web|url=http://books.google.com/books?id=axpuAAAAMAAJ&q=trikuta+abhira&dq=trikuta+abhira&lr=&ei=i7BdS-iAPYGKkASAlvS4Bw&cd=20|title=Tripurī, history and culture|work=google.com}}</ref> 'कलचुरी ' नाम से [[भारत]] में दो राजवंश थे- एक मध्य एवं पश्चिमी भारत ([[मध्य प्रदेश]] तथा [[राजस्थान]]) में जिसे 'चेदी' 'हैहय' या 'उत्तरी कलचुरि' कहते हैं तथा दूसरा 'दक्षिणी कलचुरी' जिसने वर्तमान [[कर्नाटक]] के क्षेत्रों पर राज्य किया।
 
'''चेदी''' प्राचीन भारत के 16 [[महाजनपद|महाजनपदों]] में से एक था। इसका शासन क्षेत्र मध्य तथा पश्चिमी भारत था। आधुनिक बुंदलखंड तथा उसके समीपवर्ती भूभाग तथा मेरठ इसके आधीन थे। शक्तिमती या संथिवती इसकी राजधानी थी।<ref>{{cite book |last=नाहर |first= डॉ रतिभानु सिंह|title= प्राचीन भारत का राजनैतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास |year= 1974 |publisher= किताबमहल|location= इलाहाबाद, भारत|id= |page= 112|editor: |access-date= 19 मार्च 2008}}</ref>
184

सम्पादन