"सदस्य वार्ता:अजनाभ" के अवतरणों में अंतर

{{Ping|HinduKshatrana}} अहिर कबसे कलचुरी राज वंश के हुऐ मेंने तो ऐसा कभी नहीं पढ़ा तूम कबसे उस सदस्य का एक शब्द रीर्वट कररहे थे एडीट ही करना है तो ज्यादा लिखो ऐकवर्ड जो सही है उसके पीछे क्यो
पड़े हो।
{{Ping|HinduKshatrana}}
रही बात रिलायेबल सोरर्स की तो मेने उपर जो लिखा है उसका तातर्पय ये है की तुम मेरे द्वारा दीए गया रीलायेबल स्त्रोत के बावजुद तूम ने मेरे एडीट मीटाऐ और खुद तो कुछ भी लीखते हो ।
184

सम्पादन