"प्रकाश": अवतरणों में अंतर

525 बाइट्स हटाए गए ,  3 वर्ष पहले
parkash ki paribhasha
छो (Harsh Chauhan217 (Talk) के संपादनों को हटाकर Raju Jangid के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
(parkash ki paribhasha)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
प्रकाश=वह बाहः कारक है जो जिसके ‌कारण हम किसी वस्तु को देख सकते हैं परन्तु व स्वमं‌ दिखाई
[[चित्र:Cloud in the sunlight.jpg|thumb|250px|सूर्य के प्रकाश से प्रकाशित एक मेघ]]
न देता उसे प्रकाश कहते हैं
'''प्रकाश''' एक [[विद्युतचुम्बकीय विकिरण]] है, जिसकी [[तरंगदैर्ध्य]] दृश्य सीमा के भीतर होती है। तकनीकी या वैज्ञानिक संदर्भ में किसी भी तरंगदैर्घ्य के विकिरण को प्रकाश कहते हैं। प्रकाश का मूल कण [[फ़ोटान]] होता है। प्रकाश की तीन प्रमुख विमायें निम्नवत है।
* प्रकाश स्वम आगे कि ओर बढता है
* तीव्रता जो प्रकाश की चमक से सम्बन्धित है
* आवृत्ति या तरंग्दैर्घ्य जो प्रकाश का रंग निर्धारित करती है।
* ध्रुवीकरण (कम्पन का कोण) जिसे सामान्य परिस्थितियों में मानव नेत्र से अनुभव करना कठिन है। पदार्थ की तरंग-द्रव्य द्विकता के कारण प्रकाश एक ही साथ तरंग और द्रव्य दोनों के गुण प्रदर्शित करता है। प्रकाश की यथार्थ प्रकृति भौतिकविज्ञान के प्रमुख प्रश्नों में से एक है।
1

सम्पादन