"ब्रजभाषा" के अवतरणों में अंतर

123 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
सम्पादन सारांश रहित
(→‎बाहरी कड़ियाँ: ब्रजभाषा में गीत (सतवीर चौधरी-भाषा संयोजक) ब्रजभाषा एक साहित्यिक एवं स्वतंत्र भाषा है जब मांईस अपनी भाषा ऐ बोलें और आपस में बातचीत करें तब बिन्‍नै बहुत मजा आबै है। टेक - झन्डा तीन तिरंगा किले पै टांग दियौ 1. तातौ सौ पानी साबन दानी नहा गये जबाहर लाल नेहरु देस आजाद हुयौ। झन्डा तीन तिरंगा किले पै टांग दियौ 2. सोने की थरिया में भोजन परोसे जैंय गये जबाहर लाल नेहरु देस आजाद हुयौ। झन्डा तीन तिरंगा किले पै टांग दियौ 3. सोने के लोटा गंगाजल पानी पी गये जबाहर लाल नेहरु देस आजाद ह)
छो
Global Knowledge Foundation - Sahitya Chaturvedi
{{हिन्दी की बोलियाँ}}
{{हिन्द-आर्य भाषाएँ}}
 
[[श्रेणी:ब्रजभाषा]]
[[श्रेणी:उत्तर प्रदेश की भाषाएँ]]
[[श्रेणी:राजस्थान की भाषाएँ]]
[[श्रेणी:हिन्द-आर्य भाषाएँ]]