"तुलू भाषा" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  11 माह पहले
यह 'ळ' का प्रयोग हिंदी में नहीं होता है!
(→‎तुलू की शैलियाँ: व्याकरण में सुधार)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
(यह 'ळ' का प्रयोग हिंदी में नहीं होता है!)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
{{InterWiki|code=tcy}}
{{स्रोतहीन}}
'''तुलू''' [[भारत]] के [[कर्नाटक]] राज्य के पश्चिमी किनारे में स्थित [[दक्षिण कन्नड जिला|दक्षिण कन्नड़]] और [[उडुपी जिला|उडुपि]] जिलों में तथा उत्तरी [[केरल]] के कुछ भागों में प्रचलित [[भाषा]] है। पहले तुलू ब्राह्मण [[वैदिक साहित्य|वैदिक]] और [[संस्कृत साहित्य]] लिखने के लिये 'तिगलारि' नामक लिपि को उपयोग करते थे। लेकिन बहुत कम साहित्य तुलू भाषा में मिला है। पर आज इस लिपि को जाननेवाले बहुत कम हैं। पुरानी तिगलारि लिपि [[मलयालम]] लिपि से बहुत मिलती है। अब तुलू लिखने के लिये [[कन्नड़ लिपि]] का प्रयोग किया जाता है। यह पंच द्राविड भाषाओं में एक है। [[दक्षिण कन्नड जिला|दक्षिण कन्नड]] और उडुपी जिलों की अधिकांश लोगों की [[मातृभाषा]] तुळुतुलू है। इसलिए ये दोनो जिले सम्मिलित रूप से '''तुलुनाडु''' नाम से जाने जाते हैं। [[केरल]] के [[कासरगोड जिला|कासरगोड]] जिले में भी बहुत लोग तुलू भाषा बोलते हैं।
 
== कृतियाँ ==
66

सम्पादन