"मनु" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
jmj
(Include true events)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(jmj)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
[[हिन्दू धर्म]] के अनुसार '''मनु''' संसार के प्रथम पुरुष थे। प्रथम मनु का नाम [[स्वयंभुव मनु]] था, जिनके संग प्रथम स्त्री थी [[शतरूपा]]। ये स्वयं भू (अर्थात होना) द्वारा प्रकट होने के कारण ही स्वयंभू कहलाये। इन्हीं प्रथम पुरुष और प्रथम स्त्री की सन्तानों से संसार के समस्त जनों की उत्पत्ति हुई। मनु की सन्तान होने के कारण वे [[मानव]] या [[मनुष्य]] कहलाए। स्वायंभुव मनु को आदि भी कहा जाता है। आदि का अर्थ होता है प्रारंभ।
 
सभी भाषाओं के मनुष्य-वाची शब्द मैन, मनुज, मानव, आदम, आदमी आदि सभी मनु शब्द से प्रभावित है। यह समस्त मानव जाति के प्रथम संदेशवाहक हैं। इन्हें प्रथम मानने के कई कारण हैं। सप्तचरुतीर्थ के पास [[वितस्ता नदी]] की शाखा देविका नदी के तट पर मनुष्य जाति की उत्पत्ति हुई। प्रमाण यही बताते हैं कि आदि सृष्टि की उत्पत्ति भारत के [[उत्तराखण्ड]] अर्थात् इस ब्रह्मावर्त क्षेत्र में ही हुई। मानव का हिन्दी में अर्थ है वह जिसमें मन, जड़ और प्राण से कहीं अधिक सक्रिय है। मनुष्य में मन की शक्ति है, विचार करने की शक्ति है, इसीलिए उसे मनुष्य कहते हैं। और ये सभी मनु की संतानें हैं इसीलिए मनुष्य को मानव भी कहा जाता है। ब्रह्मा के एक दिन को कल्प कहते हैं। एक कल्प में 14 मनु हो जाते हैं। एक मनु के काल को मन्वन्तर कहते हैं। वर्तमान में [[वैवस्वत मनु]] (7वें मनु) हैं।
 
== मनुओं की संख्या ==
बेनामी उपयोगकर्ता