"इन्द्रधनुष" के अवतरणों में अंतर

31 बैट्स् जोड़े गए ,  11 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
[[चित्र:Rainbow formation.png|thumb|250px|]]
 
[[आकाश]] में संध्या समय पूर्व दिशा में तथा प्रात:काल पश्चिम दिशा में, वर्षा के पश्चात् [[लाल]], [[नारंगी (रंग)|नारंगी]], [[पीला]], [[हरा]], [[आसमानी]], [[नीला]], तथा [[बैंगनी]] वर्णो का एक विशालकाय वृत्ताकार वक्र कभी-कभी दिखाई देता है। यह '''इंद्रधनुष''' कहलाता है। वर्षा अथवा बादल में पानी की सूक्ष्म बूँदों अथवा कणों पर पड़नेवाली सूर्य किरणों का [[विक्षेपण]] (डिस्पर्शन) ही इंद्रधनुष के सुंदर रंगों का कारण है। सूर्य की किरणें वर्षा की बूँदों से [[अपवर्तन|अपवर्तित]] तथा [[परावर्तन|परावर्तित]] होने के कारण इन्द्रधनुष बनाती हैं। इंद्रधनुष सदा दर्शक की पीठ के पीछे सूर्य होने पर ही दिखाई पड़ता है। पानी के फुहारे पर दर्शक के पीछे से सूर्य किरणों के पड़ने पर भी इंद्रधनुष देखा जा सकता है।
 
== द्वितीयक इंद्रधनुष ==
66

सम्पादन