"तिलका मांझी अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र" के अवतरणों में अंतर

टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन उन्नत मोबाइल सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन उन्नत मोबाइल सम्पादन
झारखंड के मुख्यमंत्री, [[रघुवर दास]] ने 24 जनवरी, 2019 को हवाईअड्डा परियोजना के ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह का प्रदर्शन किया और सरकार ने उसी दिन एएआई के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।<ref name="TP4"/>एमओयू के तहत, हवाई अड्डे के निर्माण के लिए एक संयुक्त उद्यम कंपनी की स्थापना की जाएगी जिसमें एएआई की 51 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी जबकि राज्य सरकार शेष होगी।<ref name="TOI2">{{cite news|title=State to form JV with AAI for Dhalbhumgarh airport |url=https://timesofindia.indiatimes.com/city/ranchi/state-to-form-jv-with-aai-for-dhalbhumgarh-airport/articleshow/67578884.cms |work=[[The Times of India]] |date= 18 January 2019 |access-date= 21 January 2019}}</ref> ज्ञापन के अनुसार, एएआई रुपये का निवेश करेगा। हवाई अड्डे के निर्माण के लिए 100 करोड़ जबकि राज्य परियोजना के लिए आवश्यक 240 एकड़ भूमि प्रदान करेगा। हवाई अड्डे को पहले चरण में एटीआर -72 प्रकार के विमानों को संचालित करने के लिए डिज़ाइन किया जाएगा। बाद में चरणों में बड़े विमानों को संचालित करने के लिए रनवे की लंबाई बढ़ाने के लिए अतिरिक्त 545 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा।<ref name="HT1"/>
परियोजना स्थल 240 एकड़ में फैला है और हवाई अड्डे की लागत {INR} 100 करोड़ होगी। 15,000 वर्ग फुट वाले टर्मिनल भवन में छह चेक-इन काउंटर होंगे, 150 यात्रियों को संभालने में सक्षम होंगे। प्रस्तावित रनवे 2,179-मीटर लंबा और 30-मीटर चौड़ा होगा और दूसरे चरण में इसे 4,400 मीटर तक विस्तारित किया जाएगा।<ref name="TOI1"/>
 
=== बाहरी लिंक ===
{{भारत में विमानक्षेत्र}}
 
=== सन्दर्भ ===
[[श्रेणी:झारखंड के विमानक्षेत्र]]
46

सम्पादन