"रीति काल" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
इस काल में कई कवि ऐसे हुए हैं जो आचार्य भी थे और जिन्होंने विविध काव्यांगों के लक्षण देने वाले ग्रंथ भी लिखे। इस युग में शृंगार की प्रधानता रही। यह युग मुक्तक-रचना का युग रहा। मुख्यतया [[कवित्त]], [[सवैया|सवैये]] और [[दोहा|दोहे]] इस युग में लिखे गए।
 
राजा-महाराजा और आश्रयदाता अब केवल काव्यों को पढ़ और सुनकर ही संतुष्ट नहीं होते थे, बल्कि अब वह स्वयं काव्य रचना करना चाहते थे। इस समय पर कवियों ने आचार्य का कर्तव्य निभाया।
 
4

सम्पादन