"पृथ्वीराज चौहान" के अवतरणों में अंतर

Balaji Guruji Maharaj (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4398976 को पूर्ववत किया
छो
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
(Balaji Guruji Maharaj (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4398976 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
|religion = [[हिन्दुधर्म]]
}}
'''पृथ्वीराज चौहान''' ({{IPA audio link|भारतेश्वरः पृथ्वीराजः चौहानः.wav}}) ({{lang-sa|भारतेश्वरः पृथ्वीराजः}}, {{lang-en|Prithviraj Chavhan}}) (सन् 1178-1192) [[चौहान वंश]] के [[हिंदू]] क्षत्रिय <nowiki>[[राजपूत]]</nowiki> राजा थे, जो उत्तर भारत में १२ वीं सदी के उत्तरार्ध में [[अजमेर]] (अजयमेरु ) और [[दिल्ली]] पर राज्य करते थे। वे भारतेश्वर, पृथ्वीराजतृतीय, हिन्दूसम्राट्, सपादलक्षेश्वर, राय पिथौरा इत्यादि नाम से प्रसिद्ध हैं। भारत के अन्तिम [[हिन्दू धर्म|हिन्दूराजा]] के रूप में प्रसिद्ध पृथ्वीराज १२३५ विक्रम संवत्सर में पंद्रह वर्ष (१५) की आयु में राज्य सिंहासन पर आरूढ़ हुए। पृथ्वीराज की तेरह रानियाँ थी। उन में से [[संयोगिता]] प्रसिद्धतम मानी जाती है। पृथ्वीराज ने दिग्विजय अभियान में ११७७ वर्ष में भादानक देशीय को, ११८२ वर्ष में जेजाकभुक्ति शासक को और ११८३ वर्ष में [[सोलंकी वंश|चालुक्य]] वंशीय शासक को पराजित किया। इन्हीं वर्षों में [[भारत]] के उत्तरभाग में [[मोहम्मद ग़ोरी|घोरी]] (ग़ोरी) नामक गोमांस भक्षण करने वाला योद्धा अपने शासन और धर्म के विस्तार की कामना से अनेक जनपदों को छल से या बल से पराजित कर रहा था। उसकी शासन विस्तार की और धर्म विस्तार की नीति के फलस्वरूप ११७५ वर्ष से पृथ्वीराज का गोरी के साथ सङ्घर्ष आरंभ हुआ।
 
उसके पश्चात् अनेक लघु और मध्यम युद्ध पृथ्वीराज के और गोरी के मध्य हुए।विभिन्न ग्रन्थों में जो युद्ध सङ्ख्याएं मिलती है, वे सङ्ख्या ७, १७, २१ और २८ हैं। सभी युद्धों में पृथ्वीराज ने गोरी को बन्दी बनाया और उसको छोड़ दिया। परन्तु अन्तिम बार नरायन के द्वितीय युद्ध में मोहम्मद गौरी ने पृथ्वीराज चौहान को रात के अंधेरे में छल कपट से बंदी बना लिया , पश्चात् गोरी ने पृथ्वीराज को कुछ दिनों तक '[[इस्लाम|इस्लाम्]]'-धर्म का अङ्गीकार करवाने का प्रयास करता रहा। उस प्रयोस में पृथ्वीराज को शारीरक पीडाएँ दी गई। शरीरिक यातना देने के समय गोरी ने पृथ्वीराज को अन्धा कर दिया। अन्ध पृथ्वीराज ने अपने मित्र चंदरबरदई के साथ मिलकर गोरी का वध करने की योजना बनाई,योजना के तहत हिन्दू हृदय सम्राट पृथ्वीराज चौहान ने शब्दभेदी विद्या से तीर छोड़कर मोहम्मद गोरी का वध कर दिया । <poem>{{cquote|एक एव सुहृद्धर्मो निधनेऽप्यनुयाति यः।
9,894

सम्पादन