"केशवदास": अवतरणों में अंतर

4 बाइट्स हटाए गए ,  2 वर्ष पहले
छो
2405:204:A52C:C953:F844:150A:6877:CF84 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:205:1480:E0C8:16B5:3033:78C5:1664 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2405:204:A52C:C953:F844:150A:6877:CF84 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:205:1480:E0C8:16B5:3033:78C5:1664 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया SWViewer [1.3]
== जीवन परिचय ==
 
आचार्य केशवदास का जन्म 1555 ईस्वी में [[ओरछा]] में हुआ था। वे सनाढय ब्राह्मण थे। उनके पिता का नाम काशीनाथ था। ओरछा के राजदरबार में उनके परिवार का बड़ा मान था। केशवदास स्वयं ओरछा नरेश महाराज रामसिंह के भाई इन्द्रजीत सिंह के दरबारी कवि, मन्त्री और गुरु थे। इन्द्रजीत सिंह की ओर से इन्हें इक्कीस गाँव मिले हुए थे। वे आत्मसम्मान के साथ विलासमय जीवन व्यतीत करते थे।<ref>{{cite web|url=http://www.gutenberg.org/files/11924/11924-h/11924-h.htm#CH_V_iv |title=The Project Gutenberg eBook The Loves ofxxxof Krishna, by W .G. Archer |publisher=Gutenberg.org |date=2004-04-06 |accessdate=2012-09-19}}</ref>
Krishna, by W .G. Archer |publisher=Gutenberg.org |date=2004-04-06 |accessdate=2012-09-19}}</ref>
 
केशवदास [[संस्कृत]] के उद्भट विद्वान थे। उनके कुल में भी संस्कृत का ही प्रचार था। नौकर-चाकर भी संस्कृत बोलते थे। उनके कुल में भी संस्कृत छोड़ हिंदी भाषा में कविता करना उन्हें कुछ अपमानजनक-सा लगा -
99

सम्पादन