"सलीम ख़ान" के अवतरणों में अंतर

807 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
सलीम खान अपने माता-पिता की सबसे छोटी संतान थे, जब सलीम खान 14 साल के थे, तब तक उनके माता-पिता दोनों मृत्यु हो गई। उनके पिता, अब्दुल रशीद खान, [[भारतीय इंपीरियल पुलिस]] में शामिल हो गए थे और डीआईजी-इंदौर के रैंक तक पहुंच गए थे, जो ब्रिटिश भारत में एक भारतीय के लिए खुला सर्वोच्च पुलिस रैंक था। सलीम की माँ की मृत्यु हो गई जब वह केवल नौ वर्ष का थे। वह अपनी मृत्यु से पहले चार साल तक तपेदिक से पीड़ित थी, और इसलिए छोटे बच्चों के लिए उसके पास आना या उसे गले लगाना मना था, इसलिए बालक सलीम का अपनी माँ के साथ मृत्यु से पहले भी बहुत कम संपर्क था। उनके पिता की भी मृत्यु जनवरी 1950 में हुई थी, जब वह केवल चौदह वर्ष के थे।
दो महीने बाद, मार्च 1950 में, सलीम ने अपनी मैट्रिक परीक्षा इंदौर में [[सेंट रैफल्स स्कूल]] में प्रतिभाग किया। इस परीक्षा में उन्होंने मामूली रूप से अच्छा किया, और इंदौर के [[होलकर कॉलेज]] में दाखिला लिया और बीए पूरा किया। उनके बड़े भाइयों ने परिवार की पर्याप्त संपत्ति से प्राप्त धन के साथ उनका समर्थन किया, इस हद तक कि जब वह एक कॉलेज के छात्र थे तब उन्हें अपनी खुद की एक कार दी गई थी। उन्होंने खेल, विशेष रूप से क्रिकेट में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया, क्रिकेट में उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के कारण उन्हे कॉलेज द्वारा खेल कोटे के अंतरगत मास्टर की डिग्री के लिए नामांकन करने के लिए अनुमति दी गई थी। वह एक प्रशिक्षित पायलट भी थे। <ref name="">https://www.telegraphindia.com/7-days/we-were-more-successful-than-most-leading-pairs/cid/458968</ref> इन वर्षों के दौरान, वह फिल्मों के प्रति आसक्त हो गए, और सहपाठियों से प्रोत्साहन प्राप्त किया, जिन्होंने उन्हें बताया कि उनके असाधारण अच्छे लगने के साथ, उन्हें फिल्म स्टार बनने की कोशिश करनी चाहिए।
== वैवाहिक प्रास्थिति ==
सलीम खान ने पहला विवाह [[सुशीला चरक]] नामक एक [[हिन्दू]] महिला से किया जिससे उन्हें चार सन्ताने क्रमशः तीन पुत्र [[सलमान खान]], [[अरबाज खान]], [[सुहेल खान]] और एक पुत्री [[अलवीरा खान]] उत्पन्न हुयी।<ref name="">https://superstarsbio.com/bios/sushila-charak/</ref> उन्होने दूसरा विवाह प्रसिद्ध नर्तकी और अभिनेत्री [[हेलेन]] से किया।
== फिल्मी कैरियर ==
फिल्म निर्देशक [[के. अमरनाथ]] द्वारा जब उन्हें देखा गया औरतो उन्हें उनकी आगामी [[फिल्म बारात]] में एक सहायक भूमिका की पेशकश की। इसके लिये उन्हें एकमुश्त पारिश्रमिक रु 1000 / - तथा रु 400 / - के मासिक वेतन का भुगतान किया गया। [[फिल्म बारात]] का विधिवत निर्माण 1960 में पूर्ण हुआ लेकिन इसमें उनकी भूमिका एक छोटी सी थी।
इस प्रकार सलीम खान फिल्मों में मामूली भूमिकाओं में काम करते हुये अभिनेताओं की सामान्य 'संघर्ष' की स्थिति में आ गए और धीरे-धीरे बी-ग्रेड फिल्मों में उतरने लगे। <ref name="">https://www.lokmatnews.in/bollywood/salim-khan-birthday-special-know-the-journey-from-indore-to-bollywood/</ref>अगले दशक में, उन्होंने लगभग दो दर्जन फिल्मों में छोटी मोटी भूमिकाओं का निर्वहन किया।<ref name="">https://www.telegraphindia.com/7-days/we-were-more-successful-than-most-leading-pairs/cid/458968</ref>
उन्होंने 1970 तक कुल 14 फ़िल्में की, इनमें [[तीसरी मंज़िल]] (1966), [[सरहदी लुटेरा]] (1966) और [[दीवाना]] (1967) प्रमुख रूप से शामिल थीं। उनकी सबसे महत्वपूर्ण भूमिका तीसरी मंजिल थी, जहां उन्होंने नायक के दोस्त की भावपूर्ण भूमिका की।
760

सम्पादन