"सलीम ख़ान" के अवतरणों में अंतर

258 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
दो महीने बाद, मार्च 1950 में, सलीम ने अपनी मैट्रिक परीक्षा इंदौर में [[सेंट रैफल्स स्कूल]] में प्रतिभाग किया। इस परीक्षा में उन्होंने मामूली रूप से अच्छा किया, और इंदौर के [[होलकर कॉलेज]] में दाखिला लिया और बीए पूरा किया। उनके बड़े भाइयों ने परिवार की पर्याप्त संपत्ति से प्राप्त धन के साथ उनका समर्थन किया, इस हद तक कि जब वह एक कॉलेज के छात्र थे तब उन्हें अपनी खुद की एक कार दी गई थी। उन्होंने खेल, विशेष रूप से क्रिकेट में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया, क्रिकेट में उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के कारण उन्हे कॉलेज द्वारा खेल कोटे के अंतरगत मास्टर की डिग्री के लिए नामांकन करने के लिए अनुमति दी गई थी। वह एक प्रशिक्षित पायलट भी थे। <ref name="">https://www.telegraphindia.com/7-days/we-were-more-successful-than-most-leading-pairs/cid/458968</ref> इन वर्षों के दौरान, वह फिल्मों के प्रति आसक्त हो गए, और सहपाठियों से प्रोत्साहन प्राप्त किया, जिन्होंने उन्हें बताया कि उनके असाधारण अच्छे लगने के साथ, उन्हें फिल्म स्टार बनने की कोशिश करनी चाहिए।
== वैवाहिक प्रास्थिति ==
सलीम खान ने पहला विवाह [[सुशीला चरक]] नामक एक [[मराठी]] [[हिन्दू]] महिला से किया जिससेजिन्होंने विवाहोपरान्त अपना नाम सलमा रख लिया।<ref name="">https://www.rediff.com/movies/2008/mar/07salman.htm</ref> [[सुशीला चरक|सलमा]] से उन्हें चार सन्ताने क्रमशः तीन पुत्र [[सलमान खान]], [[अरबाजअरबाज़ खानख़ान]] , [[सुहेल खान]] और एक पुत्री [[अलवीरा खान]] उत्पन्न हुयी।<ref name="">https://superstarsbio.com/bios/sushila-charak/</ref> उन्होने दूसरा विवाह प्रसिद्ध नर्तकी और अभिनेत्री [[हेलेन]] से किया।
== फिल्मी कैरियर ==
फिल्म निर्देशक [[के. अमरनाथ]] द्वारा जब उन्हें देखा गया तो उन्हें उनकी आगामी [[फिल्म बारात]] में एक सहायक भूमिका की पेशकश की। इसके लिये उन्हें एकमुश्त पारिश्रमिक रु 1000 / - तथा रु 400 / - के मासिक वेतन का भुगतान किया गया। [[फिल्म बारात]] का विधिवत निर्माण 1960 में पूर्ण हुआ लेकिन इसमें उनकी भूमिका एक छोटी सी थी।
760

सम्पादन