"वृद्धि हार्मोन" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
छो
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
{{FixBunching|end}}
 
'''वृद्धि [https://www.onlymyfitness.in/2019/12/height-kaise-badhaye.html?m=1 हार्मोन]''' '''(जीएच (GH))''' एक [https://www.onlymyfitness.in/2019/12/height-kaise-badhaye.html?m=1 प्रोटीन] पर आधारित पेप्टाइड हार्मोन है। यह मनुष्यों और अन्य जानवरों में [[मानव विकास (जीवविज्ञान)|वृद्दि]], [[कोशिका]] प्रजनन और पुनर्निर्माण को प्रोत्साहित करता है। वृद्धि हार्मोन एक 191-अमाइनो अम्लों वाला, एकल-श्रंखला का पॉलिपेप्टाइड है जिसे अग्र पीयूष ग्रंथि के पार्श्विक कक्षों के भीतर सोमेटोट्रॉपिन (कायपोषी) कोशिकाओं द्वारा संश्लेषित, संचयित और स्रावित किया जाता है। '''सोमेटोट्रॉपिन (कायपोषी)''' से मतलब जानवरों में प्राकृतिक रूप से उत्पादित वृद्धि हार्मोन 1 से है, जबकि पुनःसंयोजी डीएनए (DNA) तकनीक से उत्पादित वृद्धि हार्मोन के लिये '''सोमाट्रॉपिन''' शब्द का प्रयोग किया जाता है<ref>{{cite journal | author=Daniels ME | title= Lilly's Humatrope Experience | journal = Nature Biotechnology | volume = 10 | pages = 812 | year = 1992 | doi = 10.1038/nbt0792-812a }}</ref> जिसका संक्षिप्त रूप मनुष्यों में "एचजीएच (HGH)" है।
 
वृद्धि हार्मोन का प्रयोग चिकित्सा-विज्ञान में बच्चों के वृद्धि विकारों और वयस्क वृद्धि हार्मोन अल्पता के उपचार के लिये नुस्खे में लिखी जाने वाली औषधि के रूप में किया जाता है। युनाइटेड स्टेट्स में यह कानूनी रूप से केवल डाक्टर के नुस्खे पर दवाई की दुकानों में उपलब्ध है। पिछले कुछ वर्षों में, युनाइटेड स्टेट्स में कुछ डाक्टरों ने जीएच-अल्पताग्रस्त (लेकिन स्वस्थ लोगों में नहीं) अधिक उम्र के रोगियों में जीवनशक्ति बढ़ाने के लिये वृद्धि हार्मोन के नुस्खे लिखना शुरू कर दिया है। कानूनन सही होते हुए भी, एचजीएच (HGH) के इस प्रयोग की प्रभावशीलता और सुरक्षा को किसी चिकित्सकीय प्रयोग में नहीं परखा गया है। इस समय, एचजीएच (HGH) को अभी भी एक अत्यंत जटिल हार्मोन माना जाता है और इसके कार्यों में से कई के बारे में अब तक जानकारी नहीं है।<ref name="ped">{{cite book | author = Powers M | authorlink = | editor = Deidre Leaver-Dunn; Joel Houglum; Harrelson, Gary L. | others = | title = Principles of Pharmacology for Athletic Trainers | edition = | language = | publisher = Slack Incorporated | location = | year = 2005 | origyear = | pages = 331–332 | chapter = Performance-Enhancing Drugs| quote = | isbn = 1-55642-594-5 | oclc = | doi = | url = | accessdate = }}</ref>