"परमार वंश" के अवतरणों में अंतर

30 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन उन्नत मोबाइल सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन उन्नत मोबाइल सम्पादन
 
== परिचय ==
परमार एक राजवंश का नाम है, जो मध्ययुग के प्रारम्भिक काल में महत्वपूर्ण हुआ। [[चारण]] कथाओं में इसका उल्लेख [[राजपूत]] जाति के एक [[गोत्र]] रूप में मिलता है। 1918 की किताब "'''''राजपूत"''''' जिसमे कहा गया है की परमार, पंँवार या पोवार यह मूल संस्कृत शब्द "प्रमार" के ही रूप है। इसमें लिखा है की एक समय में समस्त भारत में प्रमारो का साम्राज्य था , जिसके कारण कहावत प्रचलित हो गयी थी की "''यह संसार प्रमारो का है।"'' इस किताब में अन्य राजपूतो का भी उल्लेख है। <ref>RAJPUTS. Compiled in the Intelligence Branch of the Quarler Master General's Deparlment in India. BY CAPTAIN A. H. BINGLEY, 71 (DUKE or CONNAUGHT'S Owx) BENGAL INFANTRY CAT.CUTTA SUPERINTENDENT GOVERNMENT PRINTING, INDIA (Reprinted 1918)</ref><ref>RAJPUTS.https://books.google.com › about.Handbook on Rajputs - A. H. Bingley - Google Books</ref>
''पृथ्वी तणा पँवार'' की कहावतकहाँवत विक्रमादित्य और शालिवाहन जैसे विश्व विजयेता चक्रवर्ती सम्राटों के शौर्य के कारण भारतीय जनमानस में प्रचलित हुईं। परमारों को पोवार,पँवार,पवॉर,प्रमार आदि नामों से भी जाना जाता है। <ref>Hindu World. An encyclopaedia survey of Hinduism, Volume 2.p.136,671.https://books.google.com › about.The Hindu World - Google Books</ref> मरूस्थलीं राजस्थान में पोवार क्षत्रियों के नवकोट किल्ले होने का भी राजस्थान के इतिहास में उल्लेख मिलता है। <ref> The Annals and Antiquities of Rajasthan on the central and western Rajpoot states of India.James Tod. Vol.2.published by Brojendro Lall Doss.1884.</ref>
फ्रांस के पेरिस शहर से प्रकाशित सन 1854 के एक जर्नल में लिखा है कि -'पोवारों के विषय में भारत के इतिहास में वर्णित है कि विक्रमादित्य पौवार ने अपने युग में एक युग संवत् या संवत् की स्थापना की थीं । यह बात रीनाउड द्वारा उनके लिखे गए संस्मरण में भी व्यक्त की गई है। राजा भोज के विषय में वर्णित है कि मालवा साम्राज्य की राजधानी, शहर उज्जयिनी से उनके द्वारा धार शहर में स्थानांतरित किया गया। हिंदु राजा भोज का निवास स्थान धार में रहा। उनकी जाती पौवार थीं।'<ref>JOURNAL ASIATIQUE OF RECUEIL DE MÉMOIRES GINQUIEME SERIE.Vol.3.PARIS.Janvier 1854.</ref> <ref>JOURNAL ASIATIQUE vol 3.https://books.google.co.in/books?id=h39FAQAAMAAJ&source=gbs_slider_cls_metadata_9_mylibrary.</ref>
धारा नगरी बहुत समय तक पँवारों की राजधानी रही इसलिए कहाँवत पड़ गई की- ''जहाँ पँवार तहाँ धार, धार जहाँ पँवारपँवार।''<ref>Raajasthaana ke Raajavamsom kaa itihaasa.p.46. Jagdish singh Gahlot. Rajasthan sahitya Mandira.1980.</ref>
 
राजस्थान के इतिहास में भी पँवारों पर ''पृथ्वी तणा पँवार'' एवं धारानगरी पर लोकप्रिय कहाँवते जनमानस में आज भी लोकप्रसिद्ध हैं -
 
'''पृथ्वी पुँवारा तणो अनै पृथ्वी तणे पँवार।'''
Gupta.(India)1952.</ref>
 
परमार(पँवार) वंश कि उत्पत्ति राजस्थान के आबू पर्वत में स्थित अनल कूण्ड हुई थी तथा चन्द्रावती एव किराडू दो मुख्य राजधानीया भी राजस्थान में ही थी यही से परमार(पँवार) मालवा गये एवं उज्जैन(अवतीकाअवंतीका) एवं धार(धारा) को अपनी राजधानी बनाया भारत वर्ष में केवल परमार(पँवार)वंश ही एक मात्र ऐसा वंश हैं जिसमें चक्रवर्ती सम्राट हुई इसलिए यह कहा जाता है कि.
''पृथ्वी तणा परमार, पृथ्वी परमारो तणी'' यानी धरती की शोभा परमारो से है या इस धरती की रक्षा का दायित्व परमारो का है परमार राजा दानवीर, साहित्य व शौर्य के धनी थे। तथा वे कृपाण एवं कलम दोनों में दक्ष थे। उनका शासन भारत के बाहर, दूसरे देशों तक था। लेकिन राजा भोज के पश्चात परमार सम्राटों का पतन हो गया एवं परमारो के पतन होते ही भारत वर्ष मुसलमानों के अधिन हो गया अर्थात परमारो का इतिहास बहुत ही गौरव शाली रहा है। <ref>http://parmardiyodar.blogspot.com/</ref>
पंवारी के विषय में एक मत है कि यह जाति चन्द्रवंशी है । पँवार जाति में कई नाम परिवर्तित पाए जाते है - परमार,प्रमार,प्रमर,पंवार,पोंवार। प्राचीन परमार लोगों के आधीन जो नगर में आज भी विद्यमान है । महारगती ( महेश्वर ) पारा मण्डपदुर्ग ( माण्डू ) उज्जैवनीउज्जैयिनी,चन्द्रभाग,चित्तौड़, आबू , चन्द्रावती , मऊ मैदान पवारवती , अमरकोट , लोह , दूर्वा और पाटन इन नगरों को पंवारों ने अपनाया था या इन पर विजय प्राप्त की थी । पंवारों का राज्य नर्मदा नदी के पार दक्षिण भारत तक फैला था । कवि चन्द्र भट्ट ने लिखा है कि राम पंवार भारत वर्ष के चक्रवर्ती राजा थे । चन्दवरदाईचन्दबरदाई के काल में भी पँवार वंश की प्रशस्ति लिखी गई है । सन् 888 ई० सम्वत् 945 विक्रमी में पंवारों की एक शाखा मालवे में हिमालय की और आयी । जिस शाखा का मूल राजा कनकपाल था। जो कि गढ़वाल के इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखता है । कनकपाल के विषय में युरोपियन इतिहासकारों ने विभिन्न विचार व्यक्त किए है । हार्डविक साहब के विचार से उसका नाम कनकपाल नहीं था , बल्कि भोगदन्त था । वह पंवार क्षत्रिय था । अपने भाई सुंत्रदत्त के साथ अहमदाबाद गुजरात से सबसे पहले गढ़वाल में आया था । बह योग्य और साहसी था और चाँदपुर के राजा की जो सब राजाओं में बड़ा और बलिष्ट था , सेना में भर्ती हुआ था उस राजा की कृपासे भोगदन्त ने बड़ी उन्नति कर सेना में सबसे बड़ा पद । प्राप्त किया और सेनापति बना । राजा ने अपनी कन्या का विवाह उससे किया , बाद में उसने राजा की गद्दी से उतारा और अपने पौरुष के बल पर सब राजाओं को अपने आधीन कर लिया । . गढ़वाल में एक जाति राठियों की कही जाती हैं । अनुमान किया जाता है कि यह जाति कनकपाल के साथ सैनिकों के रूप में गहाँ आयौ थी और वही जम गयी , गोंकि राठ ' नाम से एक पदढी अभी तक मिलती है ।<ref>https://books.google.co.in/books?id=BwFjDwAAQBAJ&printsec=frontcover</ref>
राजा मुंज , मोज , अमोघवर्ष , आदि नरेश तो स्वयं बड़े विद्वान , [[लेखक]] और [[कवि]] थे तथा इन्होंने अनेक ग्रंथों की रचना को , विशेषकर राजा भोज ने । यद्यपि इस युग में अनेक विषयों पर ग्रंथ रचे गये पर ये ग्रंथ निम्न कोटि के थे । उनमें सरसता , सरचि और मौलिकता का प्रभाव था ।<ref>Pārva madhyakālina Bhārata kā rūjannitika evani sāmskrtika itihāsa.Bhanwarlal Nathuram Luniya
1968.</ref>
 
=== वर्तमान ===
वर्तमान में परमार वंश की एक शाखा उज्जैन के गांव नंदवासला,खाताखेडी तथा नरसिंहगढ एवं इन्दौर के गांव बेंगन्दा में निवास करते हैं।धारविया परमार तलावली में भी निवास करते हैंकालिका माता के भक्त होने के कारण ये परमार कलौता के नाम से भी जाने जाते हैं।धारविया भोजवंश परमार की एक शाखा धार जिल्हे के सरदारपुर तहसील में रहती है। इनके ईष्टदेव श्री हनुमान जी तथा कुलदेवी माँ कालिका(धार)है|ये अपने यहाँ पैदा होने वाले हर लड़के का मुंडन राजस्थान के पाली जिला के बूसी में स्थित श्री हनुमान जी के मंदिर में करते हैं। इनकी तीन शाखा और है;एक बूसी गाँव में,एक मालपुरिया राजस्थान में तथा एक निमच में निवासरत् है।11वी से 17 वी शताब्दी तक पंवारो का प्रदेशान्तर सतपुड़ा और विदर्भ में हुआ । सतपुड़ा क्षेत्र में उन्हें भोयर पंवार कहा जाता है धारा नगर से 15 वी से 17 वी सदी स्थलांतरित हुए पंवारो की करीब 72 (कुल) शाखाए बैतूल छिंदवाडा वर्धा व् अन्य जिलों में निवास करती हैं। पूर्व विदर्भ, मध्यप्रदेश के बालाघाट सिवनी क्षेत्र में धारा नगर से सन 1700 में स्थलांतरित हुए पंवारो/पोवारो की करीब 36 (कुल) शाखाए निवास करती हैं जो कि राजा भोज को अपना पूर्वज मानते हैं । संस्कृत शब्द प्रमार से अपभ्रंषित होकर परमार तथा पंवार/पोवार/भोयर पंवार शब्द प्रचलित हुए ।
 
पंवार वंश की एक शाखा जिसका प्रधान कल्याण सिंह परमार थे। इनके तेरह भाई थे।
472

सम्पादन